‘बिहार से ज्यादा बेहतर हैं ओडिशा के यूनिवर्सिटीज, यहां तो एकेडमिक कैलेंडर भी नहीं है’

Satyapal_Malik, सत्यपाल मलिक, राज्यपाल, पत्थरबाजी, जम्मू-कश्मीर, कश्मीर हिंसा, Satyapal Malik, positive side of kashmir, Jammu Kashmir, नरेंद्र मोदी, अलगाववादी नेता, बिहार,
सत्यपाल मलिक, राज्यपाल जम्मू-कश्मीर ,

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बार फिर बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर चिंता जताई है. उन्होंने कहा कि बिहार से ज्यादा बेहतर उड़ीसा के यूनिवर्सिटीज हैं. बता दें कि सत्यपाल मलिक बिहार के गवर्नर तो हैं ही साथ ही वे ओडिशा का भी प्रभार संभाल रहे हैं. सत्यपाल मलिक ने ओडिशा में आयोजित यूनिवर्सिटीज के वाईस चांसलर के कांफ्रेंस में बिहार और ओडिशा की शिक्षा व्यवस्था की भी तुलना की.

सत्यपाल मालिक ने कहा कि मुझे खुशी है कि ओडिशा के विश्व विद्यालय अच्छा कर रहे हैं. बिहार में न तो एकेडमिक कलेंडर है और न ही परीक्षाएं कदाचारमुक्त हैं. उन्होंने बिहार में चल रहे बीएड कॉलेज पर भी अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि बिहार में बीएड कॉलेजों में माफिया राज चल रहा है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि बिहार में शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाने के लिए कई ठोस कदम भी उठाए गए हैं.

बीएड कॉलेजों की मनमानी पर नकेल, अब एंट्रेंस टेस्ट का जिम्मा नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी को

बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के इस बयान पर वरिष्ठ पत्रकार सुरेन्द्र किशोर ने कहा कि जब राज्यपाल महोदय कह रहे हैं तो वे ठीक ही कह रहे हैं, पर मुझे यह जान कर अच्छा नहीं लगा कि विश्व विद्यालय शिक्षा के मामले में हम लोग ओडिशा से भी पीछे हैं. ऐसे में सत्यपाल मलिक की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है. उम्मीद है कि उन्हें इस बात का श्रेय मिलेगा कि उहोंने विश्व विद्यालयों के चांसलर के रूप में बिहार में शिक्षा को पटरी पर ला दिया.

देखिए #जिज्ञासा की स्पेशल वीडियो रिपोर्ट : #जेटएयरवेज आपको दे रहा दो फ्री टिकट, कितना सच है ये…

बता दें कि हाल ही में सत्यपाल मलिक निजी बीएड कॉलेज में धांधली को लेकर खूब गरम हो गए थे. उन्होंने कहा कि बिहार में निजी कॉलेजों में माफिया राज चल रहा है. आधा से अधिक नेताओं ने कब्ज़ा जमा रखा है. उन्होंने स्पष्ट कहा था कि इस पर कड़ा एक्शन लिया जाएगा. वे किसी से डरने वाले नहीं हैं. बाद में राजभवन से बीएड में दाखिले के लिए CET परीक्षा पास करना अनिवार्य कर दिया गया. इसके लिए अधिसूचना भी जारी कर दी गई.

About Ranjeet Jha 2861 Articles
I am Ranjeet Jha (पत्रकार)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*