हत्या के आरोपी भतीजे के साथ पप्पू पांडेय ने लगवाए पोस्टर, बिहार में उबाल पर सियासत

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : जदयू विधायक अमरेन्द्र कुमार पांडेय उर्फ़ पप्पू पांडेय एक बार फिर विवादों में घिर गए हैं. इस बार पप्पू पांडेय के द्वारा लगाये गए पोस्टरों को लेकर विवाद हो रहा है. दरअसल, इस पोस्टर में पप्पू पांडेय के भतीजे व जेल में बंद जिप अध्यक्ष मुकेश पांडेय की फोटो सुर्खियों में है. मुकेश पांडेय जेपी यादव ट्रिपल मर्डर केस में चार्जशीटेड है और जेल में बंद है.

कुचायकोट के पहाड़पुर, बथना कुटी, भोपतापुर, बघउच सहित कई गांवों में और एनएच के किनारे बड़े-बड़े पोस्टर लगाये गए हैं. इसमें सबसे बड़ी बात यह है कि जिस पोस्टर पर हत्याकांड के चार्जशीटेड मुकेश पांडेय का फोटो लगाया गया है उस पोस्टर को पप्पू पांडेय के द्वारा ही लगवाया गया है.



बता दें कि पप्पू पांडेय गोपालगंज के कुचायकोट से जदयू के विधायक हैं. सीएम नीतीश कुमार के करीबी माने जाने वाले विधायक पप्पू पांडेय के ऊपर राजद नेता जेपी यादव और उसके परिजनों पर फायरिंग कराने का आरोप है. इस घटना में जेपी यादव घायल हो गए थे जबकि उनकी मां, उनके पिता और भाई की इलाज के दौरान मौत हो गयी थी.

इस घटना के बाद विपक्ष ने पप्पू पांडेय और सरकार पर जमकर हमला बोला था. और पप्पू पाण्डेय को अविलम्ब गिरफ्तार करने की मांग की गयी थी. हालांकि सीआडी की जांच में पप्पू पांडेय के ऊपर जेपी यादव ट्रिपल मर्डर केस में कोई संलिप्तता उजागर नहीं हुई, लेकिन उनके भाई सतीश पांडेय, भतीजे मुकेश पांडेय और रिश्तेदार बटेश्वर पांडेय को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था. इनलोगों के ऊपर हत्या में शामिल होने के साक्ष्य मिले थे.


बहरहाल पोस्टर से जुड़े विवाद के मामले में सदर एसडीएम उपेन्द्र कुमार पाल का कहना है कि कोड ऑफ़ कंडक्ट लागू होने के बाद ऐसे पोस्टर लगाने की इजाजत नहीं है. अगर ऐसे पोस्टर लगाये गए हैं तो इस मामले में प्राथमिकी दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जाएगी.