5 जनवरी से किसान-मजदूर रोजगार यात्रा शुरू करेगी जाप, पप्पू यादव ने कर दिया एलान

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : देश के सभी विपक्षी दल किसानों के लिए एक समन्वय समिति बनाएं. यह समिति किसान संगठनों के साथ मिलकर किसानों के वर्तमान और भविष्य को बचाने के लिए लड़ाई लड़े. मैं राष्ट्रीय पार्टियों कांग्रेस, वामपंथी दल और क्षेत्रीय दलों से समन्वय समिति से जुड़ने का आग्रह करता हूँ. उक्त बातें जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने कही. वो पार्टी दफ्तर में एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित कर रहे थें.

पप्पू यादव ने कहा कि किसानों की लड़ाई के पहले चरण के दौरान हमारी पार्टी ने लगातार एक सप्ताह तक अनिश्चित कालीन धरना दिया. मंगलवार को हमने किसान न्याय मार्च भी निकाला जिसे पुलिस की लाठी से दबाने का प्रयास किया गया. इस पुलिसिया कार्यवाई में हमारे नेताओं को बुरी तरह से पीटा गया. निहत्थे लोगों पर लाठियां भांजी गयी और घसीटा गया. जिसमें हमारी 10 माहिला नेत्रियों समेत कई लोगों को चोटें आईं हैं.



आगे उन्होंने कहा कि इस लड़ाई के दूसरे चरण में हम 5 जनवरी से किसान-मजदूर रोजगार यात्रा की शुरुआत करेंगे. हम किसानों के बीच जाकर उन्हें बताएंगे कि कैसे आपसे सस्ते दामों पर फसल को खरीदकर अंबानी और अडानी के मॉल में मंहगे दामों पर बेचा जा रहा है. मेहनत किसान करता हैं और फायदा पूंजीपति उठाते हैं. तीसरा चरण मार्च के आखिरी सप्ताह में गाँधी मैदान से शुरू होगा. करो या मरो के नारे के साथ हम किसानों के अधिकारों की लड़ाई लड़ेंगे. जरूरत पड़ने पर सरकारी कार्यालयों पर ताला लगाएंगे और रेल रोकेंगे.

जाप अध्यक्ष ने कहा कि हम न डरेंगे, न रुकेंगे न हारेंगे. हम लड़ेगे और जीतेंगे. केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए पप्पू यादव ने कहा कि जीएसटी और नोटबंदी से छोटे व्यापारियों को बर्बाद करने के बाद सरकार उन्हें चोर कहती है, बुद्धिजियों को टुकड़े-टुकड़े गैंग, किसानों को खालिस्तानी, युवाओं को उन्मादी कहा जा रहा है. देश के सविधान, संस्कृति, मानवता और भारत के निर्माण में प्रमुख भूमिका निभाने वाले किसानों और मजदूरों पर हमला किया जा रहा है.

बिहार में किसानों की स्थिति पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि देश में सबसे ज्यादा दुर्गति बिहार के किसानों की हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वर्ष 2006 में ही कृषि मंडियों को खत्म कर दिया था. बिहार में किसानों की आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए कृषि मंडियों को पुनर्जीवित करने की आवश्यकता है.

अंत में पप्पू यादव ने कहा कि 25 दिसम्बर को हम सभी जिला मुख्यालय में किसानों को दलाल कहने वाले मंत्री का पुतला दहन करेंगे. प्रेस वार्ता से पहले पप्पू यादव समेत सभी नेताओं ने चौधरी चरण सिंह की तस्वीर पर पुष्पार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी. इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष राघवेन्द्र कुशवाहा, प्रेमचन्द सिंह, सच्चिदानंद यादव, राजेश रंजन पप्पू, रानी चौबे सहित पार्टी के तमाम कार्यकर्ता मौजूद थें.