पप्पू यादव ने दिल्ली से मजदूरों के लिए अभी तक 200 बसें रवाना की

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : लॉकडाउन के कारण दिल्ली में फंसे बिहारी प्रवासी मजदूरों की मदद करने के लिए जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और मधेपुरा के पूर्व सांसद पप्पू यादव ने शुक्रवार को 30 बसें रवाना की. आज भी कई बसे रवाना होंगी. पप्पू यादव ने कहा कि आज लॉकडाउन के 60 वें दिन भी हमारा सेवा कार्य जारी हैं. अब तक बिहार – यूपी जाने वाले बसों की संख्या करीबन 200 हो गयी है, जिसमें हमने प्रवासी मजदूरों को उनके घर जाने में मदद की. ये सिलसिला आगे भी जारी रहेगा.”

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा क्वारंटाइन सेंटर्स के डिजिटल सर्वेक्षण पर पप्पू यादव ने कहा कि, “पन्द्रह साल के राज में नीतीश कुमार ने बिहार में रोजगार की कोई व्यवस्था नहीं की. जिसके कारण लाखों मजदूर दूसरे राज्यों में जाने को मजबूर हैं. आज मजदूरों के इस हालत के जिम्मेदार नीतीश कुमार हैं.” हमने अभी तक अपने सीमित संसाधनों से लाखों मजदूरों तक सहायता राशि पहुंचाई हैं. जरूरतमंद लोंगों को राहत सामग्री और नगद बॉटने का काम आगे भी जारी रहेगा. पप्पू यादव ने बताया की अभी लॉक डाउन के 60 दिन हुए है. हमने इन दिनों में देश भर में फंसे हुए छात्र और मजदूरों के लिए आवाज उठाई हैं. कोटा में फंसे हुए छात्रों के लिए टिकट का इंतजाम कराया.



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए पप्पू यादव ने कहा कि, “अचानक लॉकडाउन लागू करके प्रधानमंत्री ने करोड़ों प्रवासी मजदूरों को दूसरे राज्यों में फंसा दिया. मजदूर भाई हजारों किलोमीटर पैदल चलने को मजबूर हैं. बिहार की बेटी ज्योति हजारों किलोमीटर से अपने पिता को साइकिल पर बैठाकर गुरुग्राम से लेकर बिहार आई. कल उसे जाप के द्वारा 20000 रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की गई; मजदूरों को घर वापसी के पर्याप्त इंतजाम नहीं किए गए.” आगे उन्होंने कहा कि, “केंद्र सरकार में बिहार के छः मंत्री है. हमेशा हिन्दू- मुस्लिम करने वाले ये नेता पिछले तीन महीनों से कहां है?”

चक्रवात अम्फन के कारण बंगाल और उड़ीसा में हुए तबाही पर जाप अध्यक्ष ने कहा कि, “महामारी के समय हमारे लोगों को एक महाविनाश का सामना करना पड़ रहा हैं. इस दुःख की घड़ी में मैं और मेरी पार्टी उनके साथ खड़ी हैं. मैंने निश्चय किया है कि मैं मुख्यमंत्री राहत कोष में पांच लाख रुपए दान दूंगा.”

पाकिस्तान के कराची में हुए विमान दुर्घटना पर दुःख जताते हुए उन्होंने कहा कि, “ईद से दो दिन पहले यह घटना काफ़ी दुःखदायी है. इस हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के साथ मेरी संवेदना हैं.”