पटना में मरीज की मौत, परिजनों ने जम कर किया हंगामा

Patna city

पटना : नालंदा मेडिकल कॉलेज में देर रात मरीज मो अमजद की मौत के बाद बुधवार की सुबह परिजनों ने जम कर बवाल किया है. बताया जाता है कि मरीज की स्थिति काफी गंभीर हो गयी थी, लेकिन चिकित्सकों ने ध्यान नहीं दिया. जब खून चढ़ाने की नौबत आयी तो डॉक्टर का ही पता नहीं था. इसके बाद मरीज मो अमजद की और स्थिति बिगड़ गयी तथा देर रात उसकी मौत हो गयी. आज सुबह में मृतक के परिजनों ने जम कर हंगामा किया.

परिजनों के अनुसार मंगल तलाब बाग़ मालू खां टोल निवासी मो अमजद को कल एनएमसीएच में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था. अमजद को भर्ती करने के समय नर्सों ने उसे पानी चढ़ाया. लगभग शाम चार बजे मरीज की हालत में कोई सुधार नहीं हुआ. यहां तक की स्थिति और बिगड़ती ही चली गयी. जब अमजद के बड़े भाई अरशद खां ने नर्स को इसकी जानकारी दी तो नर्स ने कहा कि अभी डॉक्टर साहब मौजूद नहीँ हैं. थोड़ी देर के बाद नर्स ने जब मरीज़ को देखा, तो उसने कहा कि तुरंत उसे खून चढ़ाना होगा. अमजद के परिवार वालों ने तुरंत खून का इंतजाम किया, लेकिन डॉक्टर के नहीं रहने के कारण उसे खून नहीं चढ़ाया जा सका और उसकी मौत हो गयी.

मरीज की मौत के विरोध में उसके परिजन आक्रोशित हो गये और अस्पताल में हंगामा करने लगे, जिससे ड्यूटी में तैनात नर्स डर के मारे रूम में बंद हो गयी. सूचना पाकर मौके पर पहुंची आलमगंज की पुलिस ने हंगामा कर रहे लोगों को समझा बुझा कर लोगों को शांत किया और मृतक के बड़े भाई अरशद खां के बयान पर मामला दर्ज करते हुई कार्रवाई का भरोसा दिया.

गौरतलब है कि पटना सिटी अनुमंडल में एनएमसीएच एकमात्र बड़ा हॉस्पिटल है. यूं कहें कि अनुमंडल के लोगों के लिए यह लाइफ लाइन है, लेकिन इसकी स्थिति इन दिनों खराब है. आये दिन डॉक्टर व स्टाफ की लापरवाही की शिकायत मिलती रहती है. मो अमजद की घटना से एक बार फिर अस्पताल की पोल खुल गयी है.

इस बाबत लोगों ने सरकार और स्वास्थ विभाग से यहां की व्यवस्था को दुरुस्त करने की मांग ही है.