पटना में बढ़ी जमीन-फ्लैटों की रजिस्ट्री, 111 करोड़ अधिक मिला राजस्व

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पटना से एक बड़ी खबर निकलकर आ रही है. पिछले कुछ सालों में भारत सरकार द्वारा लिए गए कठीन फैसले से लोग सकते में आ गए थे. लेकिन धीरे-धीरे रफ्तार की पटरी सही हो चली है. भारत सरकार के द्वारा पिछले कुछ सालों में सबसे बड़ा फैसला नोटबंदी और जीएसटी था. इन दोनों फैसलों से लोगों को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ा था. इन अचानक दोनों फैसलों से लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ था. लेकिन अब धीरे-धीरे सही हो गया है.

नोटबंदी और फिर जीएसटी की मार से रियल एस्टेट और जमीन कारोबार अब उबर चुका है. वित्तीय वर्ष 2018-19 की समाप्ति के बाद जिला निबंधन कार्यालय से जो आंकड़े आए हैं, उनसे इसकी पुष्टि होती है. 2018-19 में पूरे जिले में 86,367 जमीन व फ्लैटों की रजिस्ट्री हुई है, जो वर्ष 2017-18 के मुकाबले 8,861 अधिक है. साथ ही समाप्त हुए वित्तीय वर्ष में रजिस्ट्री से 815 करोड़ 70 लाख 72 हजार 26 रुपए राजस्व जिला निबंधन कार्यालय को मिला, जो वर्ष 2017-18 के मुकाबले 111 करोड़ 79 लाख 81 हजार 591 रुपए अधिक है.



https://www.youtube.com/channel/UCGwWE0AEHEkHTUzKrzDjZSQ/videos

निबंधन कार्यालय के अधिकारी की मानें तो जीएसटी के लगभग दो और नोटबंदी के लगभग तीन वर्ष बीतने के बाद अब धीरे-धीरे जमीन व फ्लैट की खरीद-बिक्री का ग्राफ बढ़ा है. आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 2017-18 में पूरे जिले में 703 करोड़ 90 लाख 25 हजार 635 रुपए की रजिस्ट्री हुई थी. इसके अलावा जमीन व फ्लैटों की कुल 77506 रजिस्ट्रियां हुई थीं, जबकि वर्ष 2018-19 में उपरोक्त आंकड़ा काफी अधिक है. वर्ष 2017-18 में रजिस्ट्री से 898 करोड़ रुपए राजस्व का लक्ष्य दिया गया था, उस दौरान 78.38 फीसदी लक्ष्य की प्राप्ति हुई थी. वहीं, वर्ष 2018-19 में यह लक्ष्य 932 करोड़ रुपए का था, जो 87.52 फीसदी तक हासिल हुआ.

विक्रम व मसौढ़ी में लक्ष्य से अधिक राजस्व

जिले में राजस्व वसूली व रजिस्ट्री के मामले में पटना सदर अनुमंडल सबसे आगे है. इस बार यहां 15006 रजिस्ट्रियां हुईं, जिनसे 318 करोड़ 10 लाख 23 हजार 914 के राजस्व की प्राप्ति हुई है. विक्रम और मसौढ़ी में लक्ष्य से अधिक रजिस्ट्री से राजस्व की प्राप्ति हुई है.

इलाका राजस्व लक्ष्य हासिल

पटना सदर 318.10 करोड़ 80.74 फीसदी
पटना सिटी 96.06 करोड़ 88.13 फीसदी
दानापुर 170.14 करोड़ 87.71 फीसदी
बाढ़ 22.48 करोड़ 93.68 फीसदी
बिक्रम 49.48 करोड़ 108.90 फीसदी
मसौढ़ी 35.27 करोड़ 103.76 फीसदी
फुलवारीशरीफ 124.62 करोड़ 94.41 फीसदी

जमीन अधिक, फ्लैट कम बिके

अब भी जमीन के मुकाबले फ्लैटों की रजिस्ट्री काफी हो रही है. जिला निबंधन कार्यालय जमीन और फ्लैट की खरीद-बिक्री का आंकड़ा अलग-अलग तैयार कर रहा है. निबंधन कार्यालय के कर्मी बताते हैं कि कुल रजिस्ट्री में 70 फीसदी से अधिक रजिस्ट्री जमीन की है, जबकि फ्लैटों की रजिस्ट्री काफी कम है.

अब नोटबंदी व जीएसटी का असर जमीन और फ्लैटों के खरीद-बिक्री पर से लगभग समाप्त हो गया है. बीते वर्षों में रेरा को लेकर थोड़ी परेशानी हुई थी. इस कारण मामला स्थिर हो गया था. अब फिर जमीन-फ्लैट की खरीद-बिक्री में रुचि बढ़ी है. मार्केट बढ़ रहा है. फिर भी 100 फीसदी राजस्व की प्राप्ति नहीं हुई.