हैदराबाद की हैवानियत पर गुस्सा है पटना, फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाकर सुनवाई की मांग

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : हैदराबाद में लेडी वेटरनरी डॉक्टर के साथ हुई हैवानियत ने पूरे देश में आक्रोश भर दिया है. वारदात के बाद पूरे देश में गुस्से का माहौल है और लोग जल्द से जल्द आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. इसको लेकर पूरे देश में लगातार आंदोलनों का दौर जारी है. बिहार की राजधानी पटना में भी हैदराबाद की पीड़िता डॉक्टर को इंसाफ दिलाने के लिए कैंडिल मार्च निकाला गया.

हैदराबाद की घटना के विरोध में आज बिहार ऑप्थलमोलॉजिकल सोसाइटी की ओर से कैंडिल मार्च निकाला गया. इस मार्च में डॉक्टरों ने सरकार से आरोपियों के ऊपर जल्द से जल्द कड़ी कार्रवाई करने की मांग की.



रूह कंपाने वाली है ये घटना

बता दें कि हैदराबाद में लेडी डॉक्टर की मदद करने के बहाने चार दरिंदों ने उसके साथ गैंगरेप किया था. इसके बाद उसे मारकर जिंदा जला दिया. पटना में इसको लेकर आज ऑप्थलमोलॉजिकल सोसाइटी की ओर से कैंडिल मार्च निकाला गया. इस इस मौके पर सोसाइटी के सचिव डॉ. सुनील कुमार सिंह ने कहा कि यह घटना रूह कंपा देने वाली है. इससे देश में महिलाओं के बीच में असुरक्षा का भाव पैदा हो रहा है. अब घर से बाहर निकलने के लिए उन्हें सोचना पड़ता है.

डॉ. सुनील कुमार सिंह ने कहा कि इस तरह की घटना से मानसिक विकृति बढ़ती है. सरकार को महिलाओं की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए. वहीं डॉ. रंजना ने कहा कि बतौर समाज सिर्फ बोलने के अलावा भी हमें ऐसी घृणित घटनाओं पर कुछ करना चाहिए. डॉ. वर्षा सिंह ने कहा कि ऐसी घटनाओं की सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट होना चाहिए.

फास्ट ट्रैक से होनी चाहिए सुनवाई

इस मामले की रोजाना सुनवाई होनी चाहिए. इस दौरान गैर-सरकारी संगठन भी शामिल हुए. प्रदर्शनकारियों ने आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग की. इसके साथ ही लोगों ने कैंडल मार्च निकालकर मृतका के लिए न्याय की मांग की. कैंडल मार्च में आईजीआईएमएस पटना तथा पीएमसीएच पटना के मेडिकल स्टूडेंट्स भी शामिल थे. डॉ. अनीता ने कहा कि अपने देश में ही जब महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं तो उन्हें कहां सुरक्षित माहौल मिलेगा. डॉ. विभूति प्रसाद सिन्हा ने कहा कि यह घटना हैवानियत से भरी है.

पटना जंक्शन पर टीटीई से भिड़ गया यात्री, एमएसटी पास दिखाने को लेकर हुआ विवाद