पीएम मोदी ने कोसी रेल महासेतु समेत 12 परियोजनाओं का किया उद्घाटन

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : विधानसभा चुनाव से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर बिहार को बड़ी सौगात दी है. पीएम मोदी आज बिहार में कई योजनाओं का उद्घाटन कर रहे हैं. इसमें सबसे खास कोसी रेल महासेतु है. 2003 में पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने इसकी आधारशिला रखी थी, जो अब जाकर एक बार फिर से बीजेपी की सरकार में बनकर तैयार हुआ है. कल से इस महासेतु से ट्रेनों का परिचालन शुरू हो जाएगा. जिससे कोसी और मिथिलांचल के कई इलाके आपस में जुड़ जाएंगे. 

महासेतु के उद्घाटन से सुपौल के आम लोग भी बहुत खुश हैं. स्टेशन पर पहुंच कर तैयारी को देखने पहुंच रहे है. लोगों का कहना है 86 सालों के बाद मिथिलांचल दो भागों में विभक्त था कल से एक हो जाएगा. आज का दिन सुपौल के लिए ऐतहासिक है. 19 सितंबर से रोज सवारी गाड़ी का परिचालन शुरू हो जाएगा. हमलोगों के लिए बहुत ही ऐतहासिक दिन है.



साल 1887 में कोसी क्षेत्र में निर्मली और भापतियाही के बीच मीटर गेज लिंक का निर्माण हुआ था, लेकिन 1934 में भारी बाढ़ और नेपाल में आए भूकम्प में यह तबाह हो गया था. इसके बाद कोसी नदी की अभिशापी प्रकृति के चलते इस रेल मार्ग के पुनर्निर्माण का काम शुरू करने को कोई प्रयास नहीं किया गया. इस परियोजना को केंद्र सरकार ने 2003-04 में हरी झंडी दी थी. इस सेतु की लम्बाई 1.9 किलोमीटर है और इसके निर्माण पर 516 करोड़ रुपये की लागत आई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को बिहार में ‘ऐतिहासिक’ कोसी रेल महासेतु के साथ यात्री सुविधाओं से संबंधित रेल की 12 परियोजनाओं का उद्घाटन किया. मोदी ने जिन 12 रेल परियोजनाओं का उद्घाटन किया जिसमें किउल नदी पर एक रेल सेतु, दो नई रेल लाइनें, पांच विद्युतीकरण से संबंधित, एक इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव शेड और बाढ़ और बख्तियारपुर में तीसरी लाइन परियोजना भी शामिल है.