परिवारवाद को पीएम मोदी ने बताया लोकतंत्र के लिए खतरा, युवाओं को पॉलिटिक्स में आने का दिया निमंत्रण

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार चुनाव के नतीजों में भाजपा को 74 सीटें मिली हैं. इस जीत से पीएम मोदी गदगद हैं. दिल्ली भाजपा मुख्यालय से प्रधानमंत्री मोदी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए बिहार की जनता को नमन किया. साथ ही कहा कि मैं आज आभार व्यक्त करता हूं महान देश की महान जनता का. धन्यवाद इसलिए नहीं कि उन्होंने चुनावों में भाजपा को इतनी बड़ी सफलता दी है, इसके तो वो हकदार हैं ही. धन्यवाद इसलिए क्योंकि लोकतंत्र के इस महान पर्व को हम सभी ने मिलकर बहुत उत्साह से मनाया है.

कोरोना के इस संकट काल में ये चुनाव कराना आसान नहीं था. लेकिन हमारी लोकतांत्रिक व्यवस्थाएं इतनी सशक्त हैं, पारदर्शी हैं कि इस संकट के बीच भी उन्होंने इतना बड़ा चुनाव कराकर दुनिया को भी भारत के ताकत की पहचान करा दी है.



21वीं सदी के भारत के नागरिक, बार-बार अपना संदेश स्पष्ट कर रहे हैं. अब सेवा का मौका उसी को मिलेगा, जो देश के विकास के लक्ष्य के साथ ईमानदारी से काम करेगा. हर राजनीतिक दल से देश के लोगों की यही अपेक्षा है कि देश के लिए काम करो, देश के काम से मतलब रखो.

भाजपा की सफलता के पीछे उसका गवर्नेंस मॉडल है. जब लोग गवर्नेंस के बारे में सोचते हैं, तो भाजपा के बारे में सोचते हैं. भाजपा सरकारों की पहचान ही है- गुड गवर्नेंस. मैं बिहार के अपने भाइयों और बहनों से कहूंगा, आपने एक बार फिर सिद्ध किया है कि बिहार क्यों लोकतंत्र की ज़मीन कहा जाता है. आपने फिर सिद्ध किया है कि वाकई, बिहारवासी पारखी भी हैं और जागरूक भी.

स्पेस सेक्टर को सभी के लिए खोला गया. कोरोना काल में देश के सभी गांवों को ब्रॉडबैंड से जोड़ने का अभियान शुरू हुआ. कोरोना काल में नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन शुरू हुआ-कोरोना काल में गांव की जमीन और घर के लिए प्रापर्टी कार्ड देने वाली स्कीम, स्वामित्व योजना शुरू हुई

कोरोना काल में जब दुनिया के अनेक देश थम गए थे, हमारे देश ने नई नीतियां भी बनाईं, नए निर्णय भी लिए,कृषि क्षेत्र में लिए गए ऐतिहासिक सुधार हुए. ऐतिहासिक श्रम सुधार हुए, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू किया गया.

भारत के लोकतंत्र में डगर-डगर पर, परिपक्वता के दर्शन होते हैं. भारत की युवा पीढ़ी, लोकतंत्र के प्रति सच्ची निष्ठा और श्रद्धा रखती है. मजबूत लोकतंत्र में ही उसे अवसर नजर आते हैं और अपने अधिकारों की रक्षा के प्रति वो ज्यादा आश्वस्त रहता है.

लेकिन दुर्भाग्य से कश्मीर से कन्याकुमारी तक परिवारवादी पार्टियों का जाल लोकतंत्र के लिए खतरा बनता जा रहा है. ये देश का युवा भली-भांति जानता है. परिवारों की पार्टियां या परिवारवादी पार्टियां, लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं.

पार्टी हर कार्यकर्ता और हर नागरिक के लिए अवसरों का एक बेहतरीन मंच बने. जहां प्रतिभा के साथ न्याय हो और परिश्रम को पुरस्कार मिले. मैं देश के युवाओ को, जिनके दिल में राष्ट्रहित सर्वोपरि है, जिनमें लोकतंत्र के लिए प्रतिबद्धता है, ऐसे युवाओं को निमंत्रित करता हूं.

ऐसे में भारतीय जनता पार्टी का दायित्व और बढ़ जाता है. हमें अपनी पार्टी में भीतर के लोकतंत्र को मजबूत बनाएं रखना है. हमें अपनी पार्टी को जीवंत लोकतंत्र का जीता-जागता उदाहरण बनाना है.

देश के युवाओं से मेरा आह्वान है, वो आगे आएं और बीजेपी के माध्यम से देश की सेवा में जुट जाएं. अपने सपनों को साकार करने के लिए, अपने संकल्पों को सिद्ध करने के लिए, कमल को हाथ में लेकर चल पड़ें.