रूपेश सिंह के हत्यारों को जल्द गिरफ्तार करें पुलिस, डीजीपी से सीएम नीतीश कहा- ऐसी घटनाएं बर्दाश्त नहीं

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क : इंडिगो एयरलाइंस के स्टेशन मैनेजर रूपेश सिंह हत्या मामले को लेकर सीएम नीतीश काफी गुस्से में हैं. उन्होंने डीजीपी एसके सिंघल से खुद फोन पर बात की . पुलिस मुखिया से अभी तक की जांच के बारे में जानकारी ली. हत्याकांड में शामिल अपराधियों को जल्द गिरफ्तार करने का आदेश देते हुए कहा कि स्पीडी ट्रायल कराकर दोषियों को जल्द से जल्द कठोर सजा दिलायी जाए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में किसी तरह के अपराध की घटनाओं को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. पुलिस अपराधियों के खिलाफ पूरी सख्ती से पेश आए. वहीं डीजीपी एसके सिंघल ने सीएम को बताया कि मामले के उद्भेदन के लिए एसआईटी गठित कर दी गयी है. मामले के खुलासे के लिए त्वरित कार्रवाई की जा रही है.



दरअसल, राजधानी के शहरी इलाके में सचिवालय से महज 500 मीटर की दूरी पर पुनाईचक के पास जिस तरह अपराधियों ने रूपेश कुमार के सीने में छह गोलियां उतार दी, वह हर किसी को दहशत में डाल दिया है. उस समय रूपेश कुमार अपने अपार्टमेंट के पास कार से पहुंचे ही थे. वहां पर पहले से ही घात लगाकर मौजूद अपराधियों ने महज तीन मिनट में उनके सीने में छह गोलियां उतार दीं. कार की आवाज सुन पत्नी बाहर निकल ही रही थी कि यह वारदात हो गई. पति को खून से लथपथ देख अचेत हो गई. वहीं, रूपेश कुमार को आनन-फानन में अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वे बच नहीं सके.  

नीतीश की चेतावनी भी नहीं आ रही काम

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की चेतावनी भी काम नहीं आ रही है. उन्होंने दो माह में अब तक चार बार क्राइम मीटिंग कर चुके हैं. जबकि, दो बार वे सरदार पटेल भवन स्थित पुलिस मुख्यालय पहुंच चुके हैं. पिछले सप्ताह भी मुख्यमंत्री ने पुलिस मुख्यालय में बैठक की. डीजीपी एसके सिंघल को स्पष्ट कहा, पुलिस को सरकार हर सुविधा देगी. मेन पावर भी देगी. लेकिन क्राइम को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेगी. लापरवाह अफसरों को टॉलरेट नहीं किया जाएगा. इसके बाद भी न तो पुलिसकर्मियों पर कोई प्रभाव पड़ रहा है और न ही विभाग के अधिकारियों पर. जबकि, अपराधी लगातार क्राइम को अंजाम दे रहे हैं.