मुजफ्फरपुर में गरीब पुजारी के बेटे ने पास की जेईई मेंस परीक्षा,चारों तरफ हो रही चर्चा, परिजनों में खुशी की लहर

लाइव सिटीज, अभिषेक/ मुजफ्फरपुर : कहते हैं जहां चाह होती है, वहां राह निकल आती है. यानी आप जो कुछ करना चाहते हैं या बनना चाहते हैं.  अगर आपमें इच्छा शक्ति है तो यह मुमकिन है. घर-घर जा कर पूजा करने वाले पुजारी के बेटे ने आर्थिक तंगी के बावजूद जेईई मेन्स की परीक्षा पास की है.  किराए के मकान में अपने परिवार के साथ मुजफ्फरपुर में रहते हैं. यहीं से पढ़ाई कर उसने यह सफलता हासिल की है. दूधनाथ तिवारी किराए के मकान में अपने परिवार के साथ रहते हैं. मात्र एक रूम होने की वजह से पढ़ाई में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. जिसके कारण वह सुबह उठकर छत पर पढ़ाई करते हैं, और शाम होने के बाद फिर छत पर पढ़ाई करते हैं.

लगातार परिश्रम की बदौलत उन्होंने देश की कठिनतम और प्रतिष्ठित परीक्षाओं में से एक जेईई मेंस की परीक्षा पास कर देश में 548वां स्थान प्राप्त किया है. इस सफलता के कारण उनके परिवार और आसपास के लोगों में काफी खुशी है. पिता अशोक तिवारी ने कहा कि उनकी मेहनत सफल हो गई. यह कहते हुए वो काफी भावुक हो गए. उन्होंने बताया हैं कि यह ईश्वर की कृपा ही है कि मेरा बेटा यहां तक पहुंच गया. हम तो किसी तरह पूजा पाठ करके घर का खर्च चलाते है और इस करोना काल में भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. लेकिन भगवान की कृपा के कारण सब दिक्कतों बावजूद भी आज बेटे को सफलता हासिल हुई है.

वही सफलता प्राप्त करने पर अभ्यर्थी दूधनाथ तिवारी बताते हैं कि कोरोना काल मे आर्थिक तंगी तो हुई पर ऐसी स्थिति में भी मेरे पिता ने हमेशा मेरा सपोर्ट किया है. हमेसा मुझे प्रोसाहित किया, मेरे पिता ने काफी मेहनत करके पैसा कमाया. उससे घर भी चलाया और उसी पैसों से मुझे भी पढाया है और मैं आगे चलकर आईएएस अधिकारी बनना चाहता हूं और देश की सेवा करना चाहता हूं.