रघुवंश प्रसाद सिंह ने छोड़ा राजद, राजनीतिक हलचल तेज, एनडीए स्वागत के लिए तैयार

फाइल फोटो

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : लंबे समय से नाराज चल रहे राजद के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और लालू यादव के करीबी रघुवंश प्रसाद सिंह ने आखिरकार आरजेडी से इस्तीफा दे ही दिया. चुनाव से पहले आरजेडी के लिए यह बहुत बड़ा झटका है. रघुवंश प्रसाद सिंह के इस्तीफे के बाद अब बिहार में सियासत भी तेज हो गई है. एनडीए नेता इसको लेकर लालू परिवार और राजद पर जमकर निशाना साध रहे हैं.

रघुवंश प्रसाद के इस्तीफे पर जेडीयू सांसद ललन सिंह का राजद पर बड़ा हमला बोला है. ललन सिंह ने कहा कि रघुवंश बाबू राजद में अकेले चरित्रवान नेता थे. उन्होंने कहा कि राजद में सिर्फ धन पशु का सम्मना होता है. रघुवंश बाबु सिद्धान्तवादी नेता है, उनका सम्मान राजद में कैसे हो सकता था. जेडीयू सांसद ने कहा कि धनबल रघुवंश बाबू के सम्मना के सामने खड़ा हो गया. मैं रघुवंश बाबु को सलाम करता हूँ, उन्होंने भ्रस्टाचार की पार्टी से अपने आप को अलग किया. ललन सिंह ने कहा कि रघुवंश प्रसाद प्रसाद किसी भी दल के लिए एसेट हैं. वो अगर जदयू में आना चाहते हैं तो उनका हृदय से स्वागत है.



रघुवंश प्रसाद सिंह के राजद से इस्तीफा देने पर बिहार सरकार के मंत्री और बीजेपी नेता प्रेम कुमार ने कहा कि आरजेडी पारिवारिक पार्टी बन चुकी है. पार्टी में उन्हें काफी बेइज्जत किया गया है. आरजेडी में जो उनके साथ व्यवहार किया गया वह सही नहीं था. प्रेम कुमार ने कहा कि अगर रघुवंश प्रसाद एनडीए में आना चाहते हैं तो हम उनका स्वागत करते हैं.

वहीं, रघुवंश प्रसाद सिंह के राजद छोड़ने पर बिहार सरकार के मंत्री और जेडीयू नेता अशोक चौधरी ने कहा कि कोई भी सम्मानित नेता राजद में नहीं रह सकता है. जिस तरह से रघुवंश प्रसाद की बेइज्जती की गई वह सही नहीं थी.