राम मंदिर निर्माण मामला, सभी पार्टियों ने कहा- SC के फैसले का हो सम्मान

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : अयोध्या में राम मंदिर निर्माण लेकर एक बार फिर सियासी गलियारों में बयानबाजी का दौर शुरू हो चुका है. सुप्रीम कोर्ट के ताजा आदेश के बाद बिहार में भी राम मंदिर मुद्दे को लेकर राजनीतिक दलों के बयान आने लगे हैं. हालांकि सभी राजनीतिक दलों ने का मानना है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान होना चाहिए.

आपको बता दें कि राम मंदिर निर्माण मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता कमेटी को 18 जुलाई को अपनी रिपोर्ट सौंपने को कहा है. वहीं, 25 जुलाई से इस मामले पर हर दिन सुनवाई करने पर भी विचार करने की बात कही है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राम मंदिर के निर्माण को लेकर देश में बहस छिड़ गई है.

करोड़ों लोगों की भावना का सवाल

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर लोक स्वास्थ्य एवं अभियंत्रण मंत्री विनोद नारायण झा ने कहा कि अयोध्या में मंदिर का निर्माण होना चाहिए. उन्होंने कहा कि बहुत लंबा वक्त खिंच गया. अब अयोध्या में जल्द से जल्द मंदिर का निर्माण होना चाहिए. उन्होंने आगे कहा कि यह करोड़ों लोगों की भावना का सवाल है. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट अगर बाधाओं को दूर करती है तो इससे अच्छा क्या होगा. वहीं जेडीयू नेता एवं योजना विकास मंत्री महेश्वर हजारी ने कहा कि हमारी पार्टी की राय है कि अयोध्या मामले का समाधान सुप्रीम कोर्ट के फैसले या फिर आम सहमति से होना चाहिए. तीसरा कोई रास्ता नहीं है.

कोर्ट के फैसले से हो मसले का निदान

इस मामले में राजद विधायक और प्रवक्ता शक्ति यादव ने कहा कि हम चाहते हैं कि आम सहमति से अयोध्या मसले का निदान किया जाए. उन्होंने कहा कि अब न्यायालय के सम्मान करने का वक्त आ गया है. हमें देखना है कि भाजपा के लोग न्यायालय का कितना सम्मान करते हैं. कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण सुप्रीम कोर्ट के फैसले से होना चाहिए. उन्होंने कहा कि देश का हर आदमी चाहता है कि अयोध्या मसले को जल्द से जल्द सुलझाया जाए और सुप्रीम कोर्ट इस पर जो भी फैसला देगा वह सब को मान्य होगा.

बिहार में हादसों का गुरुवार, देखिए हादसों में कितने लोगों ने गंवाई जान

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*