रामविलास पासवान को छह प्रधानमंत्रियों की मंत्रिपरिषद में केंद्रीय मंत्री के रूप में शामिल होने का मिला था मौका

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल में निधन हो गया है. देश के दिग्‍गज नेताओं में शुमार रामविलास पासवान पिछले कुछ समय से बीमार थे और अस्पताल में भर्ती थे. मोदी सरकार में उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण की जिम्‍मेदारी निभा रहे पासवान का हाल ही में दिल का ऑपरेशन किया गया था.

रामविलास पासवान ने पिछले साल चुनावी राजनीति के 50 वर्ष पूरे किए थे. यही नहीं, इस दौरान रामविलास पासवान को छह प्रधानमंत्रियों की मंत्रिपरिषद में केंद्रीय मंत्री के रूप में शामिल होने का मौका मिला था. केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान 74 साल के थे.



रामविलास पासवान ने अपने राजनीतिक सफर में 6 प्रधानमंत्रियों की मंत्रिपरिषद में केंद्रीय मंत्री के रूप में जिम्‍मेदारी निभाई. पासवान ने जिन पीएम के साथ काम किया उनमें पूर्व पीएम विश्वनाथ प्रताप सिंह, एच डी देवगौड़ा, इंद्र कुमार गुजराल, मनमोहन सिंह, अटल बिहारी वाजपेयी और वर्तमान के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शामिल हैं. इसके अलावा रामविलास पासवान को लालू प्रसाद यादव,  नीतीश कुमार, शरद यादव  और जार्ज फर्नांडीस जैसे समाजवादी नेताओं की श्रेणी में रखा जाता है और जेपी आंदोलन की उपज माना जाता है

रामविलास पासवान का जन्‍म 5 जुलाई 1946 को बिहार के खगड़िया में हुआ था. इसके बाद वह कोसी कॉलेज और पटना यूनिवर्सिटी से अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद 1969 में बिहार के डीएसपी के तौर पर चुने गए थे. 1969 में पहली बार संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी से विधायक बने थे. इसके अलावा रामविलास पासवान 1974 में पहली बार लोकदल के महासचिव बनाए गए. जबकि वह व्यक्तिगत रूप से राज नारायण, कर्पूरी ठाकुर और सत्येंद्र नारायण सिन्हा जैसे आपातकाल के प्रमुख नेताओं के करीबी थे.