रांची: भाजपा कार्यालय पर भाजयुमो के नेताओं की गुड़ागर्दी, सिपाही को पीटा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : झारखंड की राजधानी रांची से एक बड़ी खबर आ रही है. रांची में भाजपा कार्यालय से खबर है. भाजपा के प्रदेश कार्यालय में तैनात सिपाही शिवपूजन यादव को शुक्रवार काे भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमाे) के नेताओं ने पीट दिया. घटना को लेकर शिवपूजन यादव ने अरगोड़ा थाना में लिखित शिकायत दर्ज करायी है.

पुलिस ने इसकी जांच शुरू कर दी है. सीसीटीवी फुटेज की भी जांच की जा रही है. पिटाई करनेवाले कार्यकर्ताओं का नेतृत्व माेर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अमित सिंह कर रहे थे. सिपाही ने बताया है कि शुक्रवार को उसकी ड्यूटी पार्टी कार्यालय में 12 बजे से लेकर तीन बजे तक दो नंबर गेट पर थी.

दिन के करीब 1.30 बजे भाजपा युवा माेर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अमित सिंह, उपाध्यक्ष अभिषेक सिंह, महामंत्री राज सिन्हा एवं आठ-दस लोग आए और गेट खोलने के लिए दबाव डालने लगे. सिपाही के मुताबिक कार्यालय प्रभारी हेमंत दास का सख्त निर्देश दिया गया था कि किसी भी परिस्थिति में उनके आदेश के बिना गेट नहीं खोलना है.

युवा माेर्चा के नेता जब गेट के पास पहुंचे, तब सिपाही ने उन्हें कार्यालय प्रभारी के आदेश से अवगत कराया. इसके बाद उक्त नेता आक्रोशित होकर सिपाही के साथ गाली-गलौज करने लगे. फिर मारपीट शुरू कर दी. सिपाही किसी तरह जान बचा कर गार्ड रूम की ओर भागा. पर भाजयुमाे नेता नहीं माने, सिपाही काे पटक कर लात-घूंसे से मारने लगे.

सिपाही गंभीर रूप से घायल हो गया. इसी दौरान वहां उपस्थित दूसरे गार्ड मनोज कुमार महतो, मृत्युंजय और एक अन्य गार्ड ने बीच बचाव कर शिवपूजन की जान बचायी. घटना के बाद सिपाही शिवपूजन की स्थिति को देखते हुए उसे पहले सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया. इसके बाद वहां से इलाज के लिए रिम्स रेफर कर दिया गया.

आराेपियाें काे गिरफ्तार करे पुलिस

सिपाही शिवपूजन के साथ मारपीट की घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस मेंस एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र कुमार और एसोसिएशन के अन्य सदस्य अरगोड़ा थाना पहुंचे और मामले की जानकारी ली. जिन्होंने मारपीट की है, वे नेता नहीं, गुंडे हैं. इसलिए पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार करे. कार्रवाई नहीं होने पर लोकसभा चुनाव के बहिष्कार की भी धमकी दी. प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश पांडेय ने भी घटना की निंदा करते हुए दोषियाें के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. साथ ही आंदोलन की चेतावनी भी दी है.

सिपाही से मारपीट नहीं की

इधर घटना पर भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अमित सिंह ने कहा कि उन्होंने या उनकी पार्टी के किसी नेता या कार्यकर्ता ने सिपाही शिवपूजन यादव के साथ मारपीट नहीं की है. गेट खोलने के लिए बोलने पर सिपाही खुद आक्रोशित हो गया. वह डंडा उठा कर एक कार्यकर्ताओं पर चलाने लगा. इसी क्रम में सिपाही को सिर्फ पकड़ा गया था. सिपाही ने मारपीट और गाली-गलौज का जाे आराेप लगाया गया है, वह गलत है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*