रश्मि वर्मा की बीजेपी में हुई वापसी, प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर संजय जायसवाल ने दिलायी सदस्यता

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क : नरकटियागंज की पूर्व विधायक रश्मि वर्मा की घर वापसी हो गयी. बीजेपी प्रदेश कार्यालय में प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर संजय जायसवाल ने उऩ्हें पार्टी की सदस्यता दिलायी. कभी बीजेपी से बगावत कर रश्मि वर्मा ने चुनाव लड़ा था.

बीजेपी प्रत्याशी रेणु देवी को मिली हार का मुख्य कारण रश्मि वर्मा रहीं थी. क्योंकि रश्मि वर्मा ने भाजपा के ही वोट को काटा था और इसका सीधा फायदा उनके जेठ और कांग्रेस प्रत्याशी विनय वर्मा को मिला था. रश्मि वर्मा के बागी होने पर तब उन्हें पार्टी की कार्रवाई का भी सामना करना पड़ा था और उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया था.



शिकारपुर स्टेट से ताल्लुक रखने वाली रश्मि वर्मा नगर पंचायत की सभापति भी रह चुकी हैं. रश्मि 2014 में रातों रात जदयू से भाजपा में गईं और बीजेपी के टिकट पर उपचुनाव में नौ माह के लिए विधायक बनीं थीं. 2015 के चुनाव में बीजेपी ने टिकट नहीं दिया तो निर्दलीय चुनाव मैदान में उतर गईं. रश्मि के कारण ही नरकटियागंज विधानसभा का चुनाव त्रिकोणात्मक हो गया था. रश्मि वर्मा के जेठ विनय वर्मा कांग्रेस के टिकट पर यहां से चुनाव जीतें.

विवादों के साथ रश्मि वर्मा का रिश्ता काफी पुराना है.  रश्मि वर्मा के कार्यालय के बाहर टाईम बम के साथ भी धमकी भरा खत मिलने का मामला काफी सुर्खियों में था, जिसको लेकर रश्मि वर्मा ने शिकारपुर थाने में शिकायत की थी. टाईम बम होने की खबर ने पुलिस की नींद उड़ा दी और जांच के लिए मुजफ्फरपुर से विशेष टीम बुलाई गई, जिसमें बम नकली निकला. इसके बाद रश्मि वर्मा की सुरक्षा कड़ी कर दी गई.

चुनाव खत्म होने के बाद जब जांच पूरी हुई तो पता चला कि धमकी भरा पत्र भी बम की तरह नकली था. इस मामले में पुलिस ने रश्मि वर्मा के करीबियों से पूछताछ की, जिसमें ये पता चला कि यह काम उनके करीबी रहे शहनवाज नाम के शक्स ने किया था. शहनवाज ने कहा था कि रश्मि वर्मा ने खुद अपने कार्यालय में ये बम रखवाया था.