‘ड्रोन से ली गई मानव श्रृंखला की तस्वीरें सार्वजनिक करे सरकार, सच्चाई सामने आ जाएगी’

शिवानंद तिवारी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, आरजेडी, (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क : सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ मानव श्रृंखला बना कर कल बिहार में करोड़ों लोग एकजुट हुए थे. लेकिन इस पर अब सियासत शुरू हो गई है. एक ओर जहां कांग्रेस एमएलसी रामचंद्र भारती का मानव श्रृंखला में शामिल होना सियासी मुद्दा बना हुआ है तो वहीं बिहार में मुख्य विपक्षी पार्टी राजद ने भी राज्य सरकार द्वारा आयोजित इस मानव श्रृंखला पर चुनौती देते हुए हमला बोला है. राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा है कि इस बार मानव श्रृंखला टोटली फ्लॉप रही है.
शिवानंद तिवारी ने प्रेस कांफ्रेंस कर जदयू और सीएम नीतीश कुमार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार जिस मानव श्रृंखला का ढोल महीने भर से पीटते रहे. सभी सरकारी कर्मचारियों को जिसे  लगातार सफल बनाने के लिए कहते रहे.  उस  मानव श्रृंखला की सच्चाई कुछ और ही है. उन्होंने कहा कि सरकार ने 40 ड्रोन कैमरे से फोटोग्राफी की है. तो इन तस्वीरों को सरकार सार्वजनिक करे. शिवानंद तिवारी ने चुनौती देते हुए कहा कि अगर पिछले साल की तुलना में इस बार 1 चौथाई से अधिक लोग अगर शामिल हुए हों तो मैं सजा भुगतने के लिए तैयार हूँ. कांग्रेसी के मानव श्रृंखला में शामिल होने पर बोला JDU, यह नीतीश कुमार के चेहरे का जलवा है 
शिवानंद तिवारी ने कहा कि इस बार की मानव श्रृंखला सफल नहीं रही है. हरेक जिले में बहुत ही कम लोगों ने श्रृंखला बनाई. उन्होंने कहा कि मानव श्रृंखला को लेकर राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे दावे सही नहीं है. शिवानंद तिवारी ने कहा कि 4 करोड़ लोग भाग नहीं लिए थे.
वहीं कांग्रेस एमएलसी रामचंद्र भारती के मानव श्रृंखला में शामिल होने पर चले रहे बवाल में शिवानंद तिवारी ने भी प्रतिक्रिया दी. आरजेडी की ओर से शिवानंद तिवारी ने पलटवार करते हुए कहा है कि जेडीयू हमारे घर की चिंता को छोड़ अपने गठबंधन का फिक्र करे. साथ ही उन्होंने कहा कि मांझी, उपेन्द्र कुशवाहा को संभाले. नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए शिवानंद तिवारी ने कहा कि वाकई ये उनका जलवा ही है जो आज दलित उनका खुला विरोध कर रहे हैं और पत्त्थर और गोलियां चल रही हैं और नंदन गांव से नीतीश कुमार के अच्छे दिनों की शुरुआत भी हो गई है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*