लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : इस वक्त की बड़ी ख़बर मिल रही है मुजफ्फरपुर से. दरअसल मॉब लिंचिंग को लेकर पीएम मोदी को 49 सेलिब्रिटीज ने खत लिखा था. इसको लेकर बिहार के मुजफ्फरपुर कोर्ट में सभी 49 हस्तियों के खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज कराया गया था. अब इस मामले में सभी सेलिब्रिटीज को बड़ी राहत मिल गई है. बिहार पुलिस ने रामचंद्र गुहा, मणि रत्नम समेत 49 हस्तियों पर दर्ज केस को रद्द करने का आदेश दिया है.

बता दें कि ये आदेश मुजफ्फरपुर के एसएसपी मनोज कुमार ने दिया है. पीएम मोदी को खत लिखने वाले 49 सेलिब्रिटीज के खिलाफ मुजफ्फरपुर में FIR दर्ज करवाई गई थी. सभी सेलिब्रिटीज के खिलाफ राजद्रोह के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया था. हालांकि राजद्रोह का मुकदमा झूठा पाया गया है और केस को रद्द करने के आदेश दे दिए गए हैं.

मिलनी चाहिए एक्जाम्पलरी पनिशमेंट

दरअसल, पीएम मोदी को 49 सेलिब्रिटीज जिनमें रामचंद्र गुहा, मणि रत्नम, अनुराग कश्यप और अपर्णा सेन जैसे सेलेब्स मौजूद हैं, ने पीएम मोदी को मॉब लिंचिंग पर चिंता जताते हुए ओपन लेटर लिखा था. ये खत 23 जुलाई को लिखा गया था जिसमें कहा गया था कि ऐसी घटनाओं में दोषियों को एक्जाम्पलरी पनिशमेंट मिलनी ही चाहिए.

खत में लिखा गया था कि मुस्लिम, दलितों और बाकी अल्पसंख्यकों के खिलाफ मॉब लिंचिग तुरंत रूकनी चाहिए. हम ये जान कर हैरान थे कि एनआरसीबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) की रिपोर्ट में साल 2016 में दलितों के खिलाफ कम से कम इस तरह की 840 घटनाएं हैं और इन गुनाहों की सजा में निश्चित रूप से कमी हो रही है.

शिकायतकर्ता के खिलाफ कार्रवाई के आदेश

इस मामले में शिकायतकर्ता सुधीर ओझा ने सेलिब्रिटीज पर राजद्रोह और पीएम मोदी की छवि खराब करने का आरोप लगाया था. इस मामले की जांच मुजफ्फरपुर के एसएसपी मनोज कुमार ने किया और मामले को झूठा पाया. इसके बाद अब इस केस को रद्द करने के आदेश दे दिए गए हैं. साथ ही शिकायतकर्ता वकील सुधीर ओझा के खिलाफ कार्रवाई का भी आदेश दिया गया है. बता दें कि सुधीर ओझा इससे पहले भी कई मामलों में कई सेलिब्रिटीज पर जनहित याचिका के तहत केस फाइल कर चुके हैं. सुधीर ओझा ने अपने 23 साल की वकालत के करियर में कुल 745 जनहित याचिका दर्ज किए हैं जिनमें से 130 याचिकाओं को कोर्ट खारिज कर चुका है.

मॉब लिंचिंग को लेकर पीएम मोदी को पत्र, 49 सेलिब्रिटीज ने चिट्ठी लिखकर जताई चिंता

राजद ने जारी किया स्टार प्रचारकों की सूची, शरद यादव को भी मिली जगह