बिना फायदे के राजद प्रमुख अपना वक्त बर्बाद नहीं करते, सुशांत मामले पर सुशील मोदी ने बोला हमला

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: सुशांत सिंह राजपूत मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने स्वागत किया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु के मामले की जांच सीबीआई से कराने की बिहार सरकार की अपील के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट का फैसला बिहार के बेटे को न्याय दिलाने के संघर्ष की पहली जीत है.

इससे जहां यह साबित हुआ कि राज्य की पुलिस संविधान के दायरे में रहकर सही दिशा में काम कर रही थी, वहीं यह भी साफ हो गया कि महाराष्ट्र की कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना की सरकार के दबाव में दोषियों को बचाने की गहरी साजिश चल रही थी. सुप्रीम कोर्ट का फैसला न्याय के रास्ते में राजहठ की दीवार को ढहाने वाला बुलडोजर सिद्ध होगा.



सुशांत मामले में कांग्रेस और उसके समर्थक राजद जैसे दल बिहार में सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे,  जबकि इनकी सरकार मुम्बई में बिहार पुलिस के अफसर को क्वरंटाइन के बहाने हिरासत में लेकर जांच में बाधा डाल रही थी.

उस समय राजद और कांग्रेस के नेताओं ने राहुल गांधी से हस्तक्षेप करने की अपील तक नहीं की. बिहार की जनता कांग्रेस और लालू प्रसाद से इसका हिसाब मांगेगी.

डिप्टी सीएम ने कहा कि सजायाफ्ता लालू प्रसाद कथित जेल में रहते हुए कोरोना और बाढ़ पर अनर्गल ट्वीट करते रहते हैं, लेकिन उन्होंने महाराष्ट्र सरकार की ह्रदयहीनता पर चुप्पी साध ली.

लालू प्रसाद को न पालघर में साधुओं की हत्या विचलित करती है, न बिहार के उदीयमान अभिनेता को मौत के मुंह में धकेलने वालों को दंडित कराना जरूरी लगता है. जिन कामों के बदले किसी की जमीन नहीं लिखवायी जा सकती, उसमें राजद प्रमुख अपना वक्त बर्बाद क्यों करेंगे?.