अभी-अभी : लालू के सबसे ख़ास अधिकारी की बिहार से छुट्टी

पटना : बिहार की नई NDA सरकार राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के करीबी अधिकारियों का पर तेजी से क़तर रही है. इस अभियान में आज लालू प्रसाद के सबसे ख़ास अधिकारी रिटायर्ड आईएएस सुधीर कुमार (जैन) की बिहार से छुट्टी कर दी गई है. सुधीर कुमार लालू प्रसाद के इतने ख़ास थे कि जब बिहार में 2015 में महागठबंधन की सरकार बनी और तेजस्वी यादव को डिप्टी चीफ मिनिस्टर बनाया गया, तो इन्हें दिल्ली से पटना बुलाया गया. वे केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में NHAI से लौटे और सीधे तेजस्वी यादव के महकमे पथ निर्माण विभाग में प्रधान सचिव बनाए गए.

कुछ ही महीनों के बाद सुधीर कुमार आईएएस की सेवा से रिटायर हो गए. लेकिन लालू प्रसाद उन्हें बिलकुल नहीं छोड़ना चाहते थे. सो, पथ निर्माण विभाग में परामर्शी का विशेष पद सृजित किया गया और इस पर उनकी तैनाती हुई. दरअसल, लालू प्रसाद को सुधीर कुमार पर इतना भरोसा है कि उन्होंने तेजस्वी यादव को समझा रखा था कि बगैर उनके फाइल देखे कोई निर्णय मत लेना. बताया जाता है कि सुधीर कुमार की काबिलियत ही है कि जब जदयू सीबीआई के केस के बाद तेजस्वी यादव से इस्तीफे की मांग कर रहा था, तब वे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सफाई दे रहे थे कि मैंने डिप्टी सीएम रहते कोई गलत कार्य नहीं किया है, आप देख लें.

NDA की नई सरकार में नए पथ निर्माण मंत्री भाजपा के वरिष्ठ नेता नंदकिशोर यादव बने हैं. वे पहले भी इस विभाग को संभाल चुके हैं. आज मंगलवार 1 अगस्त को उन्होंने पदभार ग्रहण किया और इसके तुरंत बाद सुधीर कुमार की सेवा समाप्त कर दी गई. आप जान लें कि अभी दो दिन पहले ही यह खबर मीडिया में आई थी कि सुधीर कुमार को दिल्ली में रहने को 3 लाख रूपये के किराए का आशियाना दिया गया था.

सुधीर कुमार शुरू से लालू प्रसाद के विश्वस्त रहे. केंद्र में जब लालू रेलवे मंत्री बने, तब भी वे अपने साथ इन्हें ले गए. बाद में सुधीर कुमार ने रेल मंत्री के रूप में लालू प्रसाद की सक्सेस स्टोरी भी ‘दिवाला टू दिवाली’ लिखी. पावर कॉरिडोर में सुधीर कुमार को जानने वाले अफसर रिजल्ट देने वाले उम्दा अधिकारी के रूप में पहचानते हैं. सच यह भी है कि लालू प्रसाद से हटने के बाद जब वे होम कैडर में बिहार लौटे थे, तो NDA के पुराने कार्यकाल में ही सुधीर कुमार को वाणिज्य कर विभाग का प्रधान सचिव बनाया गया था. विभाग के मंत्री सुशील कुमार मोदी ही थे और सुधीर कुमार ने कर वसूली का नया कीर्तिमान बिहार सरकार के लिए गढ़ दिया था.

यह भी पढ़ें –

बड़ी खबर : बालू माफिया के खिलाफ लड़ाई को तैयार नहीं हुए IAS के के पाठक

RJD विधायक भाई वीरेंद्र पर FIR दर्ज, कभी भी हो सकते हैं गिरफ्तार

राजद के फाइनेंसर हैं बालू माफिया, जल्द होगा एक और बड़ा खुलासा