पटना में आरजेडी का दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर समाप्त, तेजस्वी ने पार्टी नेताओं में भरा जोश, कही ये बातें…

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: पटना में आरजेडी के दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का समापन हो गया. समापन समारोह तेजस्वी प्रसाद यादव ने सम्बोधित करते  हुए कहा कि लोगों मे बदलाव हो रहा है. बिना प्रशिक्षण के राजद प्रदेश मे सब से बड़ी पार्टी है, प्रशिक्षण के बाद पार्टी का स्वरूप क्या होगा ये सोंच कर विपक्ष का कलेजा फट रहा है. आप विरोधियों के बातों पर ध्यान न दें अपने लक्ष्य की तरफ आगे बढ़ते रहें. पहले विपक्ष सत्ता दल पर वार करता था, मगर अब उल्टा हो रहा है अब विपक्ष से ही सवाल पूछे जा रहे हैं.

नेता प्रतिपक्ष ने दक्षिण बिहार के मतदाताओं को धन्यवाद दिया और कहा कि आप ने राजद की भरपूर मदद की है. भविष्य में भी आपका सहयोग राजद को मिलता रहेगा. जिस मुद्दों को लेकर हम चुनाव मे गए थे उसपर आपने विश्वाश किया. राजद गठबंधन को एक करोड़ 56 लाख वोट मिले. जबकि सिर्फ12 हज़ार वोट एनडीए को अधिक मिला. हमारे उमीदवारों को जबरदस्ती हराया गया. राजद गठबंधन के उमीदवार बहुत कम वोट के अंतर से हारे. अगर आप पूरी तरह से मुस्तैद रहते और अपने वोट का इस्तेमाल करते तो राजद उमीदवार बड़े अंतर से जीतते उन्हें हारना नहीं पड़ता. जहां से कम वोट से महागठबंधन की हार हुई है, या हारे हैं वहां पर पार्टी को मजबूत करने के लिये और लोगों को जोड़ने की ज़रूरत है.

उन्होंने कहा कि शिविर में मैं ने लोगों से बातें की विभिन्न तरह की शिकायत मिली. सभी शिकायतों के निदान के लिये निदेश दिए गए हैं. हम प्रदेश अध्यक्ष के आभारी हैं वे पूरी मेहनत और लगन से साथ पार्टी मे अनुशासन को स्थापित कर रहे हैं. पार्टी कार्यकर्ताओं के हौंसले को बढ़ा रहे हैं. मेरे पिता लालू प्रसाद ने सामाजिक न्याय की बात को प्रारम्भ किया और सामाजिक न्याय दिलाई. अब आर्थिक न्याय की ज़रूरत है . हम लोग आपके सहयोग से आर्थिक न्याय दिलाएंगे.

उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया का प्रभाव बढ़ रहा है. हमे डिजिटल मीडिया का सहारा लेकर पार्टी को माजबूत करना है. पार्टी को आगे बढ़ाना है .राजद का वोट बैंक कम नहीं हुआ है. हमने कभी भी विचार धारा से समझौता नहीं किया. मजदूर, किसान, नौजवान के मुद्दों को सड़क से सदन तक उठाया है. देश के सभी मुद्दों पर संघर्ष किया है. आज देश में क्या हो रहा है. विरोधियों को फंसाया जा रहा है. उनपर मुकदमे हो रहे है. लोक पाल का क्या हुआ. आपलोगों को होंसला बुलंद कर रखना है. देश में क्या हो रहा है. लालू प्रसाद जैसा हमारे पास नेता है जिसे देश के लोगों का प्यार प्राप्त है. आप लोगों की मदद से नीतीश जी की पार्टी को तीसरे नंबर की पार्टी बना दिया है. विचारों से लैश हों कामयाबी मिलेगी. देश और राज्य मे बेईमानी और नाइंसाफी बढ़ रही है मगर कोई कार्यवाही नही हो रही है. किसानों को यूरिया नही मिल रहा है. कोरोना काल मे मज़दूरों के साथ क्या हुआ अगर हम सब  खड़े नही होते तो क्या होता.

 संगठन धारदार हो इसके लिये सब की ज़िमेदारी है. संविधान, लोक तंत्र खतरे मे है.अपने नेता से कंधा मिला कर चलें. निराशाजनक और नाकारात्मक बातों से दूर रहें. वैचारिक, मानसिक एवम शारीरिक रूप से पार्टी को बढ़ाने मे लगें. संघर्ष का रास्ता चुना है, संघर्ष कर रहे हैं.हम अपनी ज़िमेदारी को सही ढंग से निभाएंगे. उन्होंने राज्य मे हो रहे दो विधानसभा छेत्र में उप चुनाव मे राजद उमीदवार को जिताने को कहा.पार्टी जिसे भी उमीदवार बनाये उसे पार्टी का निर्णय समझ कर जिताये.

जातीय जन गणना गरीबों के हित मे है.जातीय जनगणना से लाभ होगा.पता चलेगा कि कौन कितने हैं.उनकी क्या स्थिति है लालू जी की आवाज़ को घर घर पहुचाएं.अपनी भूमिका को बेहतर ढंग से बढ़ाएं.हमारी नज़र सब पर है.समर्पित कार्यकर्ता को सम्मान और पद देंगे.

हम सब भाग्यशाली है कि हमारे आदरणीय राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुत ही दूरदर्शी नेता है. जब 2013 में पूरा देश लोकपाल के समर्थन में अन्ना हज़ारे या अन्ना आंदोलन के साथ खड़ा था तब उन्होंने एक popular sentiment की भी परवाह नहीं करते हुए संसद और सड़क में मुखरता से इसका विरोध किया. तब लोग गाली देते थे लेकिन अब सच्चाई सबके सामने है. कहाँ है अब वो लोग? लेकिन अब भी लालू जी अपने विचार, नीति और सिद्धांत के साथ खड़े है.

2014 में लालू जी ने कहा था कि 2014 का लोकसभा चुनाव निर्धारित करेगा कि देश टूटेगा या एक रहेगा. लोगों ने गंभीरता से नहीं लिया. परिणाम सबके सामने है, आज देश से संविधान और आरक्षण को समाप्त करने की साज़िशें की जा रही है. देश के सार्वजनिक उपक्रमों और परिसम्पत्तियों को बेचा जा रहा है.