नालंदा : बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के तहत दो लाख रुपए मिलने की अफवाह

लाइव सिटीज, नालंदा/संतोष कुमार : बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के तहत दो लाख रुपए मिलने पर फैली अफवाह से आज तेल्हाड़ा, केशोपुर व ग्यासपुर पंचायत से सैकड़ों की संख्या में महिलाएं और पुरुष एकंगरसराय डाकघर पहुंच गए. लोग डाकघर खुलने के पूर्व से ही सैकड़ों की संख्या में डाकघर के बाहर खड़े होकर डाकघर खुलने का इंतजार कर रहे थे.

डाकघर के खुलते ही लोग फॉर्म भरने और जमा करने को लेकर आपा-धापी करने लगे. इसको लेकर कई दुकानों में फॉर्म की बिक्री की जा रही थी. हालांकि प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया कि ये सब महज अफवाह और सरकार की ओर से इस तरह की कोई योजना नहीं चलाई गई है.

मुखिया के मना करने पर भी नहीं माने लोग

लोग जो फॉर्म भरकर पोस्ट कर रहे थे उस लिफाफे पर भारत सरकार रक्षा मंत्रालय एवं बाल विकास मंत्रालय शास्त्री भवन नई दिल्ली का पता लिखा हुआ था. लोगों ने बताया कि तेल्हाड़ा बाजार के कई गुमटियों व दुकानों में फॉर्म की बिक्री की जा रही है. लोगों द्वारा स्थानीय मुखिया से फॉर्म पर हस्ताक्षर व मुहर लगवाकर फॉर्म भरकर भेजा जा रहा है.

इस सम्बन्ध में जब मुखिया से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि हमलोग के पास सरकार की ओर से इस संबंध में किसी तरह का कोई पत्र नहीं मिला है. लोग फॉर्म पर हस्ताक्षर करा रहे हैं और समझाने के बाद भी नहीं मान रहे हैं. इस संबंध में एकंगरसराय बीडीओ मनोज कुमार पंडित ने बताया कि सरकार की ओर से इस तरह का कोई कार्यक्रम नहीं चलाया गया है.

बीडीओ ने बताया अफवाह

उन्होंने कहा कि कुछ लोगों के द्वारा गलत अफवाह फैलाई गई है. यह सब जाली आवेदन पत्र हैं. उन्होंने कहा कि बाजार में इस तरह का फॉर्म बेचने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी. साथ ही उन्होंने कहा कि अगर लोगों को दिग्भ्रमित कर जाली आवेदन बेचते पकड़े गए तो किसी भी कीमत पर वैसे लोगों को बख्शा नहीं जाएगा. स्थानीय थाने को जाली फॉर्म बेचने वाले लोगों पर पैनी नजर रखने का कहा गया है. बीडीओ ने बताया कि बाल कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के द्वारा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम की शुरुआत की गई है. इस योजना के तहत किसी भी तरह की नकद राशि का भुगतान या प्रोत्साहन राशि का प्रावधान नहीं है.

हैदराबाद की हैवानियत पर गुस्सा है पटना, फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाकर सुनवाई की मांग

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*