नप गए रूपसपुर के थानेदार , हुए लाइन हाजिर

nikhil

पटना : बेउर जेल से आये आवेदन पर सीधे प्राथमिकी दर्ज कर लेने के मामले में पटना के रूपसपुर थाने के थानेदार विनोद कुमार नप गए हैं. निखिल प्रियदर्शी की शिकायत पर रूपसपुर थाना में हेलियस ग्रुप के संजय कुमार सिंह और मानस कुमार के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया गया था. निखिल प्रियदर्शी कांग्रेस के पूर्व मंत्री की बेटी प्रिया (बदला नाम) के साथ यौन शोषण के मामले में मार्च महीने से ही जेल में बंद है. साथ में रिटायर्ड आईएएस पिता और बड़े भाई भी बंदी हैं.

एसएसपी मनु महाराज ने मीडिया से मिली ख़बरों को संज्ञान में लेने के बाद थानेदार को लाइन हाजिर किया है. नए थानेदार की पदस्थापना जल्द की जायेगी. सीनियर पुलिस ऑफिसर्स ने माना कि जेल में बंद निखिल प्रियदर्शी की शिकायत यदि थाने पहुंची थी, तो पहले जांच होनी चाहिए थी. वरीय पुलिस अधिकारियों के संज्ञान में मामले को लाना चाहिए था. लेकिन थानेदार ने जरुरत से अधिक हड़बड़ी दिखाते हुए सीधे प्राथमिकी दर्ज कर ली, जो गलत था. पूरे मामले की जांच अब सिटी एसपी (वेस्ट) को करने को कहा गया है.

nikhil

जेल से एक्टिव हुआ निखिल प्रियदर्शी,दर्ज कराई पुलिस में प्राथमिकी

निखिल प्रियदर्शी पर लाइव सिटीज की पूरी कवरेज पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

प्राथमिकी दर्ज होने की खबर जैसे ही मीडिया में आई, यह खबर भी वायरल होने लगी कि रूपसपुर के थानेदार विनोद कुमार से निखिल प्रियदर्शी का पुराना संबंध है. यह आरोप लगना भी प्रारंभ हो गया कि निखिल प्रियदर्शी जब गिरफतारी के डर से कई प्रदेशों में भागता चल रहा था, तो ये थानेदार उसके संपर्क में थे. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ कॉल डिटेल्स में यह राज खुला था. अब इसकी जांच विस्तार से की जायेगी. थानेदार की मदद से दर्ज कराई गयी प्राथमिकी में निखिल प्रियदर्शी ने साल 2012 और 2014 के लेन-देन का हवाला देते हुए हेलियस ग्रुप के चेयरमैन संजय कुमार सिंह और अपने पुराने सहयोगी मानस कुमार को आरोपी बनाया था.

यह भी पढ़ें :
निखिल प्रियदर्शी ने स्‍टेट बैंक का भी हड़प रखा है 46 करोड़ रुपया
अब Viral हो रही है निखिल प्रियदर्शी की नंगी तस्‍वीरें
‘प्रिया’ ने ठोका ब्रजेश पांडेय और निखिल के खिलाफ एक और मुकदमा