सहरसाः शहीद आशीष की अंतिम विदाई में DSP छोड़ नहीं पहुंचा कोई अधिकारी, गांव में है गुस्सा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः बिहार के खगड़िया में अपराधियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए थानेदार आशीष कुमार सिंह की अंतिम विदाई के दौरान गुस्सा दिखा है. एक तरफ जहां लोगों की आखों में आंसू थे, वहीं आक्रोश भी था. आक्रोश इस बात पर कि गांव में अंतिम विदाई के दौरान एक डीएसपी को छोड़कर कोई बड़ा अधिकारी नहीं पहुंचा. हालाकि बिहार सरकार के एक मंत्री जरूर शामिल हुए थे. लोगों का कहना था कि जिस विभाग का एक अधिकारी शहीद हो गया, उसी के लोग उसकी अंतिम विदाई में नहीं पहुंचे.

आशीष के गांव में गुस्सा दिखा

बिहार के खगड़िया में अपराधियों के साथ हुई मुठभेड़ की घटना में शहीद हुए सब-इंस्पेक्टर आशीष कुमार सिंह का पार्थिव शरीर रविवार को उनके पैतृक गांव सहरसा जिले के सरोजा पहुंचा है. गांव के सपूत और शहीद के शव को देखने के लिए ग्रामीणों का जनसैलाब उमड़ पड़ा. हर कोई शहीद का शव देखकर रो रहा है.

कुछ देर में उनका पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन किया जाएगा. सुबह से ही शहीद के परिजन अपने बेटे के अन्तिम संस्कार की तैयारी में जुटे हुए हैं. पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अन्तिम संस्कार किया जाएगा. राज्य सरकार की तरफ से मंत्री दिनेश चंद्र यादव भी अन्तिम दर्शन करने सरोजा गांव पहुंचे हैं.

शहीद थानाध्यक्ष आशीष कुमार सिंह के गांव में मातम पसरा हुआ है. सहरसा के सरोजा गांव के हर शख्स की आंखे नम हैं. हर व्यतक्ति इस शहीद बेटे पर गौरवान्वित भी महसूस कर रहा है.

शहीद थानाध्यक्ष के परिवार में एक पुत्र-पुत्री और कैंसर पीड़ित मां हैं, जिसके इलाज के लिए अक्सर शहीद थानाध्यक्ष मुम्बई ले जाया करते थे. पिता गोपाल सिंह के सबसे छोटे बेटे शहीद थानाध्यक्ष के घर पर दुख व्य्क्ते करने लोगों का आना जारी है. पूरे गांंव मे मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है. लोगों की आंखें उन्हें याद करके बार-बार नम हो जा रही हैं.

About Md. Saheb Ali 3471 Articles
Md. Saheb Ali

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*