यहां के डॉक्टर्स ने 316 माताओं को बना दिया था बांझ, अब होगा रजिस्ट्रेशन कैंसिल

लाइव सिटीज डेस्क : समस्तीपुर से बड़ी खबर मिल रही है. खबर यह है कि 12 अस्पतालों के डॉक्टर्स के रजिस्ट्रेशन रद कर दिए जाएंगे. इन सभी हॉस्पिटल के डॉक्टर्स ने कई मरीजों के गर्भाशय अनावश्यक ही निकाल दिए थे. मालूम हो कि इस आशय का पत्र भारतीय चिकित्सा परिषद, नई दिल्ली के अध्यक्ष को लिखा गया था. इस आलोक में भारतीय आयुॢवज्ञान परिषद, नई दिल्ली ने बिहार काउंसिल ऑफ मेडिकल रजिस्ट्रेशन के रजिस्ट्रार को पत्र भेजा  था.

जिला सामाजिक सुरक्षा कोषांग द्वारा सभी 12 अस्पतालों के चिकित्सकों का रजिस्ट्रेशन रद करने हेतु भारतीय चिकित्सा परिषद नई दिल्ली के अध्यक्ष से अनुरोध किया गया था. वहीं राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना अंतर्गत जिले में कुल 316 मरीजों की अनावश्यक सर्जरी की गई थी.



इसमें जिला सामाजिक सुरक्षा कोषांग के तत्कालीन सहायक निदेशक सह डीकेएम प्रदीप कुमार ने प्राथमिक दर्ज कराई थी. कांड के अनुसंधान में लापरवाही बरतने के लिए 11 पुलिस पदाधिकारी के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई की गई है. समस्तीपुर के जिला पदाधिकारी प्रणव कुमार ने स्वास्थ्य विभाग के कार्यपालक निदेशक सह विशेष सचिव को पत्र लिखकर मामले से अवगत कराया है.

इसमें समस्तीपुर शहर के कृष्णा हॉस्पिटल, माला नसिंग होम, मिश्रा नर्सिंग होम, लाइफ लाइन हॉस्पिटल, मां तारा सेवा संस्थान, भवानी नर्सिंग होम, राम ज्योति हॉस्पिटल, पटोरी स्थित प्रज्ञा सेवा सदन, कृष्णा हॉस्पीटल, दलसिंहसराय स्थित मां दमयंती हॉस्पिटल, एलबी मेमोरियल अस्पताल और मुक्तापुर स्थित महामुनी सेवा संस्थान को काली सूची में डालते हुए डी-पैनल किया गया था. इस फैसले से समस्तीपुर के कई अस्पतालों में हड़कंप मचा है.