संजय सिंह ने लिखा CM नीतीश को खत, कहा- खतरे में हैं कोसी के लोग, कुछ कीजिए

nitish-kumar, patna, Bihar politics , Patna politics, JDU , National level , Public relation , Campaign, Other states, बिहार पॉलिटिक्स , पटना पॉलिटिक्स , जदयू, राष्ट्रीय जनाधार , जनसंपर्क अभियान

लाइव सिटीज डेस्क : आम आदमी पार्टी से राज्यसभा सांसद और बिहार प्रभारी संजय सिंह ने बिहार के सीएम नीतीश कुमार को खत लिखा है. संजय सिंह ने कोसी क्षेत्र में रह रहे लोगों के प्रति चिंता जताई है. लगातार हो रहे कटाव को लेकर संजय सिंह ने सीएम नीतीश का ध्यान आकृष्ट किया है. उन्होंने सीएम नीतीश से अपील की है कि जल्द से जल्द इस क्षेत्र में रह रहे लोगों के उचित व्यवस्था करें.

संजय सिंह ने खत में लिखा कि खगड़िया के एक प्रतिनिधि ने उन्हें संदेश भेज कर अवगत कराया है कि इस क्षेत्र में रहने वाले गांव के लोग खतरे में हैं. कोसी नदी में कटाव लगातार जा रही है. जिस कारण गांव में बाढ़ के दौरान भयावह स्थिति हो सकती है. इस कारण उन्होंने सीएम नीतीश कुमार से अपील की है कि जिस प्रतिनिधि ने यह संदेश उन्हें दिया है. कृपया इसे गंभीरता से लेते हुए उक्त क्षेत्र में एक्शन लें. समय रहते उचित उपाय कर इस गांव को कोसी के कहर से बचाएं.

बता दें कि कोसी नदी भारत और नेपाल के बीच बहने वाली गंगा की सबसे बडी सहायक नदियों में से एक है। भारत में उत्तरी बिहार से प्रवेश करते हुए यह 9200 किलोमीटर का मार्ग तय करती है. इसमें आने वाली बाढ से बिहार मेंबहुत तबाही होती है जिससे इस नदी को ‘बिहार का अभिशाप’ कहा जाता है. एक बार फिर कोसी नदी में कटाव लगातार जारी है. कोसी क्षेत्र के खगड़िया जिले के गांव में रहने वाले लोग अभी से सहमे हैं. किसी अनहोनी की आशंका ने उन्हें डरा रखा है.

sanjay-singh-pti
संजय सिंह, AAP सांसद (फाइल फोटो)

अब आम आदमी पार्टी ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए सीएम नीतीश को अवगत कराया है. ताकि यहां के लोग सुरक्षित हो सकें. बता दें कि हर साल आने वाले बाढ़ की वजह से कोसी क्षेत्र के जिले सहरसा, सुपौल, खगड़िया मधेपुरा, अररिया, पूर्णिया, भागलपुर, मधुबनी की लाखों आबादी के प्रभावित होने की आशंका हमेशा बनी रहती है.

आज अंकिता के साथ देखिये 16 मई की #भोजपुरी बुलेटिन…

About Ranjeet Jha 2704 Articles
I am Ranjeet Jha (पत्रकार)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*