निगेटिव इमेज का डर है SBI को !, कम हो सकती है मिनिमम बैलेंस की सीमा

लाइव सिटीज डेस्क : भारतीय स्टेट बैंक ने 29 करोड़ ग्राहकों से अप्रैल से नवंबर 2017 तक 1771 करोड़ जुर्माना वसूला है. अब ये सभी ग्राहक नाराज बैठे हैं. बैंक को खूब कोस रहे हैं. नेगेटिव इमेज पूरे मार्केट में स्टेट बैंक की बन रही है. सोशल मीडिया पर भी स्टेटबैंक को जी भर के कोसा जा रहा है. मशहूर पत्रकार रवीश कुमार ने भी हाल ही में स्टेट बैंक पर निशाना साधते हुए कहा था कि बैंक ने भारतीयों की गरीबी पर जुर्माना वसूला है. अब इस बात की चर्चा स्टेट बैंक के आला अधिकारियों तक भी पहुंची है. नतीजा, बैंक को अब अपने खराब इमेज का डर सता रहा है. सूत्रों से खबर है कि बैंक अब इसकी भरपाई करने के लिए मिनिमम बैलेंस की सीमा और कम या हर महीने निश्चित बैलेंस बनाए रखने की शर्त भी खत्म कर सकता है.

नए साल पर ब्याज दरों में कमी की घोषणा के बाद अब स्टेट बैंक ऑफ इंडिया अपने ग्राहकों को एक और तोहफा दे सकती है. खबरों के अनुसार बैंक ग्राहकों के बचत खाते में मिनिमम बैंलेस की सीमा कम कर सकती है. फिलहाल यह मेट्रो, अर्बन एरिया और रूरल एरिया में क्रमशः 3000, 2000 और एक हजार रुपए हैं.  स्टेट बैंक गरीबी पर फाइन लेने में व्यस्त है, अप्रैल से नवंबर 2017 तक वसूले 1771 करोड़

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बैंक इस रकम की सीमा घटाकर 1000 रुपए तक कर सकता है साथ ही खाते में हर महीने निश्चित बैलेंस बनाए रखने की शर्त भी खत्म कर सकता है. बता दें कि बैंक की वर्तमान शर्तों के चलते ग्राहकों को मिनिमम बैलेंस ना रखने पर चार्ज लगता है और बैंक ने इससे अप्रैल से नवंबर 2017 के बीच 1771 करोड़ रुपए कमाए थे.

इस रकम के सामने आने के बाद बैंक को लेकर नकारात्मक खबरों से बाजार गर्म होने लगा था. सूत्रों के अनुसार इसी के चलते बैंक ने अब बचत खातों को लेकर कदम उठाने की तैयारी की है. बता दें कि पिछले साल बैंक ने मिनिमम बैंलेस 5000 रुपए रखने का आदेश जारी किया था लेकिन बाद में लोगों की नाराजगी और विरोध के चलते इसे घटाकर मेट्रो शहरों के लिए 3000, बड़े शहरों के लिए 2000 और ग्रामीण इलाकों के लिए 1000 रुपए किया था.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*