टिकट नहीं मिलने पर शाहनवाज नाराज, बोले- नहीं भुला सकता लोगों से मिला प्यार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : लोकसभा चुनाव के तारीखों के बाद भाजपा ने अपनी उम्मीदवारों की छठी सूची जारी कर दी है. शनिवार को बिहार एनडीए ने भी 40 में से 39 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी. 2014 में भागलपुर सीट से चुनाव हारने वाले भाजपा नेता शाहनवाज हुसैन का इस बार टिकट काट दिया है. टिकट कटने से शाहनवाज काफी नाराज दिख रहे थे.

लोकसभा टिकट नहीं मिलने से केंद्रीय मंत्री तथा भागलपुर से बीजेपी सांसद रह चुके शाहनवाज हुसैन का भी दर्द छलकने लगा है. उन्होंने इसके लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनकी पार्टी जदयू को जिम्मेदार ठहराया है. बीजेपी नेता शाहनवाज ने शनिवार को ट्वीट करते हुए कहा कि मेरी सीट नीतीश कुमार की पार्टी जदयू ने ले ली. बता दें कि गिरिराज सिंह पहले से ही सीट बदले जाने को लेकर नाराज चल रहे हैं.

दरअसल एनडीए के तीनों घटक दलों बीजेपी, जदयू व लोजपा ने शनिवार को बिहार की 39 सीटों के उम्मीदवारों की घोषणा कर दी. इसके बाद बीजेपी से सांसद रह चुके शाहनवाज हुसैन का दर्द छलक आया. उनकी टिकट मिलने की सारी उम्मीदें टूट गई. इसके बाद बेटिकट किए गए शाहनवाज हुसैन का दर्द उनके ट्वीट में छलक आया.

उन्होंने शनिवार को लगातार कई ट्वीट किए. उन्होंने ट्वीट में अपनी पार्टी को नहीं, बल्कि सहयोगी जदयू को जिम्मेवार ठहराया. पहले टवीट में लिखा कि ‘मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा. बिहार में एनडीए के साथी नीतीश कुमार की पार्टी जदयू ने मेरे अलावा छह मौजूदा सांसदों की सीट ले ली है. फिर भी पार्टी की जीत के लिए मैं कड़ी मेहनत करूंगा.

एक अन्य टवीट में उन्होंने लिखा है कि भागलपुर की जनता के प्यार और स्नेह को मैं कभी भूल नहीं सकता. मैं हमेशा वहां की जनता के साथ खड़ा रहा हूं। आगे भी साथ रहूंगा. उन्होंने कहा कि मेरी पार्टी ने हमेशा हम पर भरोसा किया. इससे पहले के छह लोकसभा चुनावों में मुझे उम्मीदवार बनाया. इस बार चुनाव नहीं लड़ रहा, लेकिन नरेंद्र मोदी को एक बार फिर इस महान देश का प्रधानमंत्री बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ूंगा. उन्होंने लिखा कि ‘मुझे भाजपा के कार्यकर्ताओं, वरिष्ठ नेताओं और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह का स्नेह मिलता रहेगा.

बता दें कि नवादा के वर्तमान सांसद गिरिराज सिंह भी पहले से नाराज चल रहे हैं. उनकी सीट इस बार बदल दी गई है. नवादा के बदले उन्हें बेगूसराय से उम्मीदवार बनाया गया है. हालांकि उन्होंने इस बाबत मीडिया को सीधे तौर पर तो कुछ नहीं कहा है, लेकिन कहा जा रहा है कि वे इसे लेकर नाराज चल रहे हैं. यह वजह है कि आज ही एनडीए की ओर से उम्मीदवारों की घोषणा के बाद खुद लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान ने गिरिराज मामले पर सफाई दी है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*