कांग्रेस पर शिवानंद तिवारी के बयान से आरजेडी ने झाड़ा पल्ला, बयान को बताया व्यक्तिगत

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क :  कांग्रेस को लेकर शिवानंद तिवारी के बयान से आरजेडी ने किनारा कर लिया. पार्टी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने शिवानंद तिवारी के बयान को व्यक्तिगत करार देते हुए कहा कि पार्टी नेताओं को ऐसा बयान देने के परहेज करना चाहिए. अध्यक्ष का चयन करना कांग्रेस का अंदरूनी मामला है. ऐसे में किसी प्रकार की टिका टिप्पणी करना मुनासिब नही है.

दरअसल आरजेडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी का कांग्रेस को लेकर दिया गया कड़क बयान पर शनिवार को सियासी गलियारा गरम है. यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है. कांग्रेस के बिहार से जुड़े तमाम नेता शिवानंद तिवारी पर गरम हैं. उन्हें पार्टी से निकाले जाने की मांग करने लगे हैं. इस पर एनडीए में शामिल घटक दल जेडीयू चुटकी ले रहा है. जेडीयू नेता ने शिवानंद तिवारी का समर्थन किया है. जबकि, इस पूरे मामले से आरजेडी ने पल्ला झाड़ लिया है. इस विवाद से खुद को किनारा करते हुए कहा कि कांग्रेस पर दिया गया बयान शिवानंद तिवारी का व्यक्तिगत है.



शिवानंद तिवारी के बयान का भले ही कांग्रेस नेता निंदा कर रहे हों और उन्हें पार्टी से निकाले जाने की मांग कर रहे हों, लेकिन उनके बयान का एनडीए ने स्वागत किया है. बीजेपी व जेडीयू दोनों ने तहे दिल से समर्थन किया है. बीजेपी प्रवक्ता अखिलेश सिंह ने स्वागत करते हुए आरजेडी नेता देर से ही सही, लेकिन राहुल गांधी के बारे में समझ तो गए.

उन्होंने हमला करते हुए कहा कि कांग्रेस की अब औकात ही क्या है. बीजेपी नेता ने कहा कि राहुल गांधी देश की सबसे बड़ी समस्या हैं, जिनका कोई हल नहीं. उधर, जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि कांग्रेस के बारे में जो बयान शिवानंद तिवारी ने दिया है, मैं उसका समर्थन करता हूं. कांग्रेस के पास कोई भी अब खेबनहार नहीं रहा.

गौरतलब है कि कांग्रेस एमएलसी प्रेमचंद मिश्रा ने शिवानंद तिवारी के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वे बीजेपी में जाने की जुगाड़ में हैं. उन्होंने तेजस्वी यादव से कहा कि वे शिवानंद तिवारी को पार्टी से बाहर निकालें. उन पर कार्रवाई करें. कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने भी कार्रवाई की मांग की है.

इसी बयान पर मचा है बवाल

आरजेडी के वरीय नेता शिवानंद तिवारी ने कल सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर सीधा हमला किया था. कहा था कि कांग्रेस बिना पतवार की नाव हो गई है. राहुल गांधी अनिक्षुक नेता हैं. उनमें लोगों को उत्साहित करने की क्षमता नहीं है. पार्टी के लोगों को उन पर भरोसा नहीं रहा. उन्होंने यह भी कहा था कि सोनिया गांधी देशहित में पुत्रमोह का त्याग करें. खराब स्वास्थ्य के बाद भी मजबूरी में सोनिया गांधी कामचलाऊ अध्यक्ष के रूप में पार्टी को खींच रही हैं. विधानसभा चुनाव में महागठबंधन की हुई हार के समय भी शिवानंद ने कहा था कि कांग्रेस बिहार में 70 सीटों की हकदार नहीं थी.

किस लोभ में बर्दाश्त कर रही कांग्रेस : मंगल पांडेय

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने शिवानंद तिवारी के बहाने तेजस्वी यादव पर हमला किया है. कहा कि बड़े राजकुमार राहुल गांधी की बेइज़्ज़ती और छीछालेदर करने के लिए छोटे राजकुमार तेजस्वी यादव ने अपने सिपहसलाहकारों को लगा दिया है. आश्चर्य तो इस बात का है कि कांग्रेस का प्रदेश से लेकर राष्ट्रीय नेतृत्व तक राहुल गांधी की इतनी बेइज़्ज़ती किस लोभ में बर्दाश्त कर रही है?