गुस्से में हैं शिवराज : डीएम को उल्टा टांग देंगे, कलेक्टरी करने लायक नहीं छोड़ेंगे

लाइव सिटीज डेस्क : मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने  नौकरशाहों पर कड़े तेवर दिखाए हैं. उन्होंने कहा है कि काम नहीं करने वाले कलेक्टरों को उल्टा टांग देंगे. साथ ही उन्हें कलेक्टरी करने लायक नही छोड़ेंगे. 12 साल से मध्यप्रदेश की सत्ता संभल रहे सीएम को यह आभास हुआ है कि नौकरशाही राज्य में सही से काम नहीं कर रही है.  नौकरशाहों पर सीएम शिवराज के कड़े तेवर पर कांग्रेस ने एतराज जताते हुए इस सीएम की हताशा और कमजोरी करार दिया है. 

शिवराज सिंह ने यह बातें मध्यप्रदेश बीजेपी की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में कही. शनिवार को हुई इस बैठक में दो केन्द्रीय मंत्री भी मौजूद थे. मुख्यमंत्री जब पार्टी पदाधिकारियों से बात कर रहे थे तो दमोह के एक पदाधिकारी ने उनसे किसान आंदोलन के संदर्भ में कहा कि गांवों में राजस्व के मामले लटके पड़े हैं. नामांतरण नही हो पा रहे हैं. इस व्यवस्था को ठीक करवाइये. इस पर शिवराज सिंह ने कहा कि मैं एक महीने बाद जिलों में जाऊंगा. अगर किसी भी जिले में अविवादित नामांतरण और सीमांकन का मामला लंबित मिला तो कलेक्टर को उल्टा टांग दूंगा. वे दोबारा कलेक्टर बनने लायक नही रहेंगे. 

आपको बता दें कि शिवराज सिंह फिल्म देखने के बड़े शौक़ीन हैं. बैठक में शिवराज सिंह ने पदाधिकारियों के बीच अनिल कपूर की फिल्म नायक की भी चर्चा की.  12 साल से मुख्यमंत्री की कुर्सी सम्भाल रहे शिवराज ने फिल्म के नायक और एक दिन के मुख्यमंत्री से अपनी तुलना करते हुये कहा कि कांग्रेस आगजनी करके मेरी सरकार गिराना चाहती थी.

उनके इस बयान पर कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि प्रदेश में कृषि और राजस्व विभाग में भारी भ्रष्टाचार है. अराजकता की स्थिति बनी हुई है. जिसकी वजह से किसान परेशान है. मुख्यमंत्री अफसरों पर दोष मढ़ कर अपनी जिम्मेदारी से मुंह मोड़ना चाहते हैं. उनके इस बयान से यह भी साफ है कि प्रदेश में नौकरशाही बीजेपी के दबाव में हैं. सिंधिया ने नौकरशाही से अपील की है कि वह जनता के प्रति जवाबदेह बने और भयमुक्त होकर अपना काम करें.

यह भी पढ़ें-  ऊहापोह में सियासत : नीतीश अब तक चुप तो शरद बोले- बरकरार रहेगा महागठबंधन