आधा दर्जन सीटिंग विधायकों का टिकट काट सकती है जेडीयू, इन दो मत्रियों के नामों की भी चर्चा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर एनडीए और महागठबंधन दोनों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है. बताया जा रहा है कि इस बीच जेडीयू ने अपने सीटिंग कैंडिडेट्स को लेकर बड़ा फैसला लेने का निर्णय ले लिया है. मिली जानकारी के अनुसार, जेडीयू आधा दर्जन सीटिंग विधायकों का टिकट काट सकती है. दो मंत्रियों का टिकट कटने की भी चर्चा हो रही है. बताया जा रहा है कि पार्टी ने यह फैसला इसीलिए लिया है क्योंकि इन दो उम्र मंत्रियों की उम्र अधिक हो गयी है. ऐसे में मंत्रियों के परिजनों को उनकी जगह टिकट मिलने की बात सामने आ रही है.

जेडीयू के सूत्रों के हवाले से खबर यह भी मिली है कि कई विधायक टिकट कटने से बागी भी हो सकते हैं. इतना ही नहीं कई बागी विधायक निर्दलीय ही चुनाव लड़ सकते हैं. एक पूर्व विधायक ने टिकट कटने पर समर्थकों की बैठक बुलाई है. बैठक में निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला भी ले सकते हैं. 



इस मसले को लेकर जेडीयू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास पर देर रात को बैठक बुलाई गयी थी. जिसमें राष्ट्रीय महासचिव आरसीपी सिंह भी मौजूद थे. दोनों में प्रत्याशियों को लेकर बहुत देर तक बातचीत हुई.

जेडीयू के दागी विधायकों को टिकट देने की वजह से नाराजगी भी है. उनका कहना है कि कई गंभीर आरोप वाले उम्मीदवारों को भी पार्टी टिकट क्यों दे रही है. आरोपी 30 सिटिंग विधायकों से वशिष्ठ नारायण सिंह और आरसीपी सिंह ने बातचीत की. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का संदेश विधायकों को बताया गया. ज्यादा गंभीर अपराध के आरोपों वाले विधायकों की जगह उनके परिजनों को टिकट दिए जाने की बात कही गई.