FathersDay : आज है पिता के लिए खास दिन, त्याग और प्यार की मूरत को न भूलें विश करना

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : आज यानि 16 जून को दुनिया भर में फादर्स डे के रूप में मनाया जाता है. यों तो पिता वो शख्सियत है जिसके त्याग और प्यार के आगे उनके सम्मान के लिए साल के 365 दिन भी कम पड़ जाएं लेकिन 16 जून के दिन को पिता के प्रति सम्मान और प्यार के रूप में पूरी दुनिया सेलिब्रेट करती है.

साल 1910 में शुरू हुआ था फादर्स डे

बताया जाता है कि फादर्स डे की शुरुआत साल 1910 में 19 जून को हुई थी लेकिन इस दिन को आधिकारिक मान्यता साल 1972 में मिली. ऐसी मान्यता है कि फादर्स डे सबसे पहले 19 जून 1910 को वाशिंगटन में मनाया गया था. पिता के लिए इस विशेष दिन को तय करने के पीछे संभवतः यह कारण रहा होगा कि लोग अपनी भागती-दौड़ती ज़िंदगी के बीच कम-से-कम एक दिन अपने पिता के नाम करें और उनके साथ अपना वक्त गुजारें. इस दिन बच्चे अपने पिता को गिफ्ट देते हैं, विश करते हैं और उनके साथ टाइम बिताते हैं. ज्यादातर जगहों पर इसे जून के तीसरे संडे को सेलिब्रेट किया जाता है.

सोनेरा डोड से जुड़ा है फादर्स डे का इतिहास

बताया जाता है कि सोनेरा डोड की मां बचपन में ही गुजर गई. इसके बाद उनके पिता विलियम स्मार्ट ने उन्हें एक पिता के साथ मां का भी प्यार देकर उनकी परवरिश की. साल 1909 में स्पोकाने के चर्च में जब मदर्स डे पर उपदेश दिया जा रहा था तभी सोनेरा डोड को लगा कि मदर्स डे की तर्ज पर फादर्स डे भी मनाया जाना चाहिए. ओल्ड सेंटेनरी प्रेस्बिटेरियन चर्च के पादरी डॉ. कोनराड ब्लुह्म की मदद से डोड अपने विचार को स्पोकाने YMCA के पास ले गईं. स्पोकाने YMCA और मिनिस्टीरियल अलायन्स ने भी डोड के इस विचार का समर्थन किया और 1910 में पहली बार फादर्स डे मनाया गया.

पढ़ेंः सीएम नीतीश ने किया मुआवजे का एलान

फादर्स डे की ये कहानी भी है मशहूर

हालांकि फादर्स डे को लेकर एक अन्य कहानी भी प्रचलित है जिसके मुताबिक सबसे पहले 5 जुलाई 1908 को फादर्स डे पहली बार मनाया गया. बताया जाता है कि 5 जुलाई को वेस्ट वर्जीनिया के फेयरमोंट में फादर्स डे मनाया गया था. 5 जुलाई को फादर्स डे के रूप में खास बनाने के लिए ग्रेस गोल्डन क्लेटन ने काफी प्रयास किया. बता दें कि ग्रेस गोल्डन क्लेटन अनाथ थीं. 6 दिसंबर 1907 को एक खान हादसे में कई लोगों की मौत हो गई थी और बहुत से बच्चों ने अपने पिता को खो दिया था. क्लेटन ने उन्हीं लोगों की याद में इस दिन को सेलिब्रेट करने के बारे में सोचा लेकिन तब इसके लिए छुट्टी नहीं होती थी.

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*