BPSC गेट के पास छात्रों का हंगामा, 64वीं PT रिजल्ट में धांधली का आरोप

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : 64वीं बीपीएससी पीटी परीक्षा का रिजल्ट 24 फरवरी को ही जारी हो गया है. इसी को लेकर बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की प्रारंभिक परीक्षा के परिणाम में धांधली का आरोप लगाते हुए अभ्यर्थियों ने आज को आयोग के समक्ष विरोध जताते हुए धरने पर बैठ गए. छात्रों की मांग है कि बीपीएससी पीटी परीक्षा में धांधली हुई है. इसको लेकर छात्रों ने बीपीएससी गेट के पास जमकर हंगामा किया. और साथ ही गेट के पास धरना पर भी बैठ गए. छात्रों का कहना है कि संशोधित रिजल्ट जल्द से जल्द जारी किया जाए. साथ ही छात्रों ने आयोग के खिलाफ खूब नारेबाजी भी की.

बीपीएससी 64वीं पीटी का रिजल्ट पहले ही जारी हो गया है, लेकिन छात्रों में अभी भी अंसतोष बना हुआ है. रिजल्ट में गड़बड़ी को लेकर कई छात्र-छात्राओं ने सड़क पर उतरकर खूब हंगामा किया है. कई छात्र बीपीएससी के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे हैं. छात्रों ने कोचिंग को भी बंद करवा दिया है. छात्र-छात्राएं सड़क जाम कर परीक्षा में हुई धांधली की जांच की मांग कर रहे हैं.

बता दें कि 64वीं पीटी रिजल्ट में धांधली हुआ है. छात्रों का आरोप है कि 12 सवाल के उतर गलत दिया गया है. गलत उतर के कारण सैकड़ों छात्रों का भविष्य अधर में लटका पड़ा है. छात्रों का मांग है कि गलत उतर को ठीक से प्रकाशित करके रिजल्ट में रिवाइज किया जाए. अभ्यर्थियों ने बीपीएससी से गलत उतर बदलने का आग्रह किया है.

अभ्यर्थी हाथों में बैनर-पोस्टर लेकर बिहार लोक सेवा आयोग के समक्ष सोमवार को धरने पर बैठ गए. उन्होंने कहा कि हमारे साथ न्याय नहीं किया जा रहा है. ‘न्याय नहीं तो वोट नहीं’ का बैनर लेकर धरने पर बैठे अभ्यर्थियों ने कहा कि अगर सरकार हमें न्याय नहीं देती है तो हम वोट का बहिष्कार करेंगे. वहीं, कुछ अभ्यर्थियों ने न्याय नहीं मिलने पर ‘नोटा’ का बटन दबाने की बात कही.

मालूम हो कि अभ्यर्थियों ने बीपीएससी पर लगाया है कि पीटी परीक्षा में कुल 150 वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे गए थे, जिनमें कई प्रश्न गलत पूछे गए थे. इनमें 15 सवालों के उत्तर गलत दिए गए हैं. अभ्यर्थियों ने कहा कि ‘एनसीईआरटी ना बीटीबीसी ना सरकारी रिपोर्ट, बीपीएससी जो कहे, वही सही’ कैसे हो सकता है. अभ्यर्थियों ने एनसीआरटी की उत्तर पुस्तिका को आधार बताते हुए बीपीएससी पर आरोप लगाया. साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं में धांधली बंद करने की बात कही.

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*