सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, अब मर्डर करने वाले बच नहीं सकते

Indian-Supreme-Court
सुप्रीम कोर्ट

लाइव सिटीज डेस्क : सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा फैसला दिया है. इसके अनुसार अब गंभीर आपराधिक केस जैसे रेप, हत्या, डकैती या फिर वित्तीय चोरी जैसे संगीन मामलों में अब दोनों पक्षों के आपसी रजामंदी के बावजूद केस खत्म नहीं होगा. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ऐसे मामलों को इसलिए रजामंदी के बाद भी खत्म नहीं किया जा सकता है, क्योंकि ये ऐसे अपराध हैं जो व्यक्तिगत स्वभाव के नहीं हैं.

एक अख़बार से बातचीत में सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील के.टी.एस तुलसी ने बताया कि अब कोई मर्डर करके नहीं बच सकता है. उन्होंने बताया कि पहले संगीन मामलों में आपसी रजामंदी के बाद केस को खत्म कर लिया जाता था, जो समाज के खिलाफ है. लिहाजा, केस में सज़ा नहीं मिलने का सीधा असर समाज पर पड़ता है. केटीएस तुलसी ने कहा कि अब सात साल से ज्यादा की सजा वाले केस में दोनों पक्षों के बीच किसी तरह का कोई समझौता नहीं हो सकता है. ये फैसला अब अदालत ही करेगी.

उन्होंने कहा कि इससे अब मर्डर, रेप जैसे संगीन मामलों में गवाहों को पर्याप्त सुरक्षा मिलेगी. पहले जुर्म करने के बावजूद अपराधी खुलेआम घुमते थे. लेकिन, सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद ऐसे अपराधियों में दहशत पैदा होगी और समाज में अच्छा संदेश गया है.

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद कि रेप, किडनैपिंग जैसे जघन्य अपराध में पहले जहां अपराधी डराने-धमकाने के बाद बच निकलते थे, तो अब उनका बचना मुश्किल हो जाएगा, क्योंकि अब फैसला अदालत में ही होगा.

यह भी पढ़ें-  लालू प्रसाद के बाद अब तेजस्वी की बारी, आज होगी CBI दफ्तर में गहन पूछताछ

4 साल में मेघालय को 5 राज्यपाल, गंगा बाबू ने ली हिंदी में शपथ

लालू बोले न हमें हरा सकते हैं, न कंट्रोल कर सकते हैं

स्मार्ट बनिए आ रही DIWALI में, अपने Love Bird को दीजिए Diamond Jewelry

RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू

PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदें, मुफ्त में मिलेगा GOLD COIN

मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)