बोले तेजस्वी : सुमो खुद पर लगे संगीन इल्जाम से बचने को लगाते हैं झूठे आरोप

लाइव सिटीज डेस्क : शत्रुघ्न सिन्हा को गद्दार बताते हुए पार्टी से निकाले जाने की मांग करने वाले भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी पर हमला तेज हो गया है. जहां एक ओर शत्रुघ्न सिन्हा लगातार अपने ट्वीट से उन पर निशाना साध रहे हैं. वहीं भाजपा से निलंबित सांसद कीर्ति आजाद ने भी तंज कसा है. और उनके तंज पर रिट्वीट करते हुए तेजस्वी यादव ने भी सुमो को आड़े हाथों लिया है. 

इस क्रम में कीर्ति ने सुमो से पूछा कि वे क्यों नहीं उन सांसदों को पार्टी से बाहर करते हैं, जिन्होंने 2015 के विधानसभा चुँव के दौरान उनपर टिकट बेंचने का आरोप लगाया था. कीर्ति आज़ाद के इस ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए डिप्टी सीएम तेजस्वी् यादव ने भी सुशील मोदी पर तंजा कसा. तेजस्वी ने कहा कि ये जनाब दूसरों पर झूठे आरोप ही इसलिए लगाते है ताकि वर्षों से ख़ुद पर लग रहे सैकड़ों संगीन, अनैतिक और ग़बन के काले चिट्ठों को छुपा सके. 



तेजस्वी ने अपने ट्वीट के जरिये हमेशा शत्रुघ्न सिन्हा और कीर्ति आज़ाद के बचाव में लिखते आ रहे हैं. बता दें कि जब सुशील मोदी ने शत्रुघ्न सिन्हा को भाजपा का ‘शत्रु’ बताया था तो तेजस्वी यादव ने शॉटगन की तरफ से मोर्चा संभाल लिया था. दरअसल शत्रुघ्न सिन्हा ने सुशील मोदी को नसीहत देते हुए कहा था कि बिना साक्ष्य के बेबुनियाद आरोप लगाना बंद करें. साथ ही कहा था कि नकारात्मक राजनीति भी बंद किया जाना चाहिए. बाद में शत्रु ने सुशील मोदी को फ्रस्ट्रेट इंसान तक कह दिया था. जिसके बाद सुमो ने कहा कि जब मैंने किसी का नाम नहीं लिया तो क्यों तिलमिला गए. चोर की दाढ़ी में तिनका. तय कर ले कि वे भाजपा के दोस्त हैं या ‘शत्रु’.

सुमो ने कहा था कि जिस लालू प्रसाद की बेनामी संपत्ति के बचाव में नीतीश कुमार नही उतरे वहां उन्हें बचाने भाजपा के ‘शत्रु’ आ गए. जिस पर तंज करते हुए तेजस्वी ने कहा था कि जो आपको ‘शत्रु’ कहता है वो खुद ‘सुशील’ कैसे हुआ. अभी भी जुबानी जंग जारी है. भाजपा का अंतर्कलह खुल कर सामने आने लगा है.

यह भी पढ़ें-  तेजस्वी का हमला बड़े नेता हैं तो पहले अपने 3 सांसदों के आरोपों का जवाब दें सुशील मोदी