सुशील मोदी की मांग, रद्द की जाए लालू प्रसाद की जमानत, शर्तों का वे कर रहे उल्लंघन

लाइव सिटीज, पटना: लालू फैमिली पर कई तरह के खुलासे करने वाले बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने एक बार फिर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर बड़ा हमला बोला है. साथ ही CBI से मांग की है कि लालू प्रसाद की जमानत भी रद करवा दी जानी चाहिए. उन्होंने आरोप लगाया है कि लालू प्रासद शर्तों का उल्लंघन कर रहे हैं. उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि चारा घोटाला के चार मामलों में सजायाफ्ता लालू प्रसाद को राजनीतिक कार्यों से अलग रहने की शर्त पर केवल इलाज के लिए जमानत मिली थी, लेकिन वे लगातार शर्तों का उल्लंघन कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि राजद प्रमुख ने पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत से बात की और उसके बाद तेलगु देशम पार्टी के तीन सांसदों ने उनसे मुलाकात कर राजनीतिक चर्चाएं कीं. इस आधार पर सीबीआई को लालू प्रसाद की जमानत तत्काल रद करानी चाहिए.

सुशील मोदी के अनुसार TDP सांसदों ने स्वीकार किया कि उऩ लोगों ने हालचाल पूछने के नाम पर लालू प्रसाद से भेंट की और संसद के मानसून सत्र में संभावित अविश्वास प्रस्ताव पर उऩकी पार्टी का समर्थन मांगा. बाद में इन सांसदों ने बिहार में नेता प्रतिपक्ष और लालू प्रसाद के पुत्र तेजस्वी यादव के नाम एक ज्ञापन भी सौंपा.

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि TDP और RJD, दोनों दलों ने लालू प्रसाद से राजनीतिक बातचीत की पुष्टि कर यह साबित किया कि इन्हें जमानत की शर्तों का पालन करने की कोई परवाह नहीं है. यह अदालत की अवमानना का मामला भी है. इससे पहले लालू प्रसाद को सजा सुनाये जाने पर उनकी पार्टी के कई नेता न्यायपालिका पर जातीय भेदभाव का आरोप लगाने वाली टिप्पणी कर चुके हैं.

उन्होंने कहा कि चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता होने के कारण लालू प्रसाद के चुनाव लड़ने पर पहले ही रोक लग चुकी है. उनकी जमानत की अर्जी खारिज करते हुए सीबीआई के जज यह टिप्पणी कर चुके हैं कि राजनीति करने और हाथी पर घूमने के लिए जमानत नहीं दी जा सकती. सीबीआई को लालू प्रसाद की सेहत और उनकी राजनीतिक गतिविधियों की समीक्षा कर तुरंत फैसला लेना चाहिए.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*