प्रभुनाथ की उम्रकैद पर बोले सुमो : अगर बिहार होता तो अब भी सजा नहीं होती

लाइव सिटीज डेस्क (नियाज आलम) : राजद नेता व पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह को हत्या के मामले में उम्रकैद की सज़ा के हजारीबाग कोर्ट के फैसले का विपक्ष ने स्वागत किया है. भाजपा नेता व पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी नेे कहा है कि हजारीबाग कोर्ट के फैसला का स्वागत है. 22 साल लगे लेकिन देर आये दुरुस्त आये. 

सुशील कुमार मोदी ने कहा कि प्रभुनाथ हत्या, अपहरण, रंगदारी जैसे अनगिनत आपराधिक मामले में लिप्त रहे हैं.   उन्होंने कहा कि प्रभुनाथ सिंह हमेशा कानून यहां तक कि न्यायालय को भी प्रभावित करते रहे हैं. यह अच्छा हुआ कि मामला हज़ारीबाग़ कोर्ट चला गया, अगर बिहार में होता तो इस बार भी प्रभुनाथ को सज़ा नहीं होती. 

भाजपा नेता ने कहा कि कोर्ट का यह फैसला एक संदेश है कि कानून के हाथ लंबे होते हैं. सुमो ने 22 साल पहले के बिहार की स्थिति को याद करते हुए कहा कि उस समय कितने ही विधायक और मंत्रियों की हत्या कर दी गई. मोदी ने कहा कि वो एक कठिन दौर था, जिससे भाजपा और जदयू गठबंधन ने बिहार को निकाल कर कानून का राज कायम किया. सुमो ने कहा कि प्रभुनाथ सिंह पर और भी कई मामले हैं जो जल्द ही सामने आएंगे. इसलिए वो राज्य सरकार से आग्रह करते हैं कि  वे न्यायिक प्रक्रिया में कोई बाधा उत्पन्न न करे.

बता दें कि राजद नेता व पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह को  22 वर्ष पहले हुए हत्याकांड में  झारखंड के हजारीबाग कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनायी है. मंगलवार को हजारीबाग के एडीजे 9 के सुरेंद्र शर्मा की कोर्ट में हुई सुनवाई में प्रभुनाथ सिंह के साथ ही उनके भाई दीनानाथ सिंह व भतीजे  रितेश सिंह को भी उम्रकैद की सजा सुनायी गयी है. इसके अलावा 40 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है. इससे उनके परिवार के लोगों व समर्थकों में काफी मायूसी है.

यह भी पढ़ें-  प्रभुनाथ सिंह को मर्डर केस में उम्रकैद की सजा            ⁠⁠⁠⁠