पेट्रोल पंप मामले में तेज प्रताप की फिर बढी मुश्किलें, कोर्ट ने नोटिस से हटाई रोक

तेजप्रताप आजकल अपने लगातार विवाद पैदा करने वाले बयान दे रहे हैं.

लाइव सिटीज डेस्क : दुश्मन मारण जाप के बाद रुद्राभिषेक से संकट खत्म करने की कोशिश भले ही महागठबंधन को बचा रही हो. लेकिन खुद तेज प्रताप यादव के लिए मुश्किलें कम नहीं हो रही है.  अब पेट्रोल पंप मामले में उनकी मुश्किलें एक बार फिर  बढ़ने वाली है. 

दरअसल, स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव के पटना में अनीसाबाद स्थित पेट्रोल पंप की डीलरशिप रद्द करने वाले नोटिस से कोर्ट ने रोक हटा दी है. इससे पेट्रोल पंप कंपनी एक बार फिर उन्हें लाइसेंस के सिलसिले में नोटिस भेज सकती है. नोटिस से रोक हटाने के साथ दीवानी कोर्ट ने तेजप्रताप और भारत पेट्रोलियम को मध्यस्थता एवं सुलह कानून के तहत आर्बिटेटर के पास भी भेजा है. 

मालूम हो कि भारत पेट्रोलियम ने तेजप्रताप के अनीसाबाद स्थित पेट्रोल पंप की डीलरशिप रद्द करने के लिए नोटिस जारी किया था. इस नोटिस के खिलाफ तेज प्रताप यादव ने भारत पेट्रोलियम को प्रतिवादी बनाते हुए दीवानी कोर्ट में मुकदमा कर दिया था.

कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई करते हुए  भारत पेट्रोलियम द्वारा भेजे गए नोटिस पर रोक लगा दी थी. इसके बाद 18 जुलाई को सिविल कोर्ट के अवर न्यायाधीश शचि मिश्र की कोर्ट में इस मामले पर सुनवाई हुई. कोर्ट ने दोनों पक्षों के वकीलों की बहस के बाद फैसला सुनाते हुए नोटिस भेजने पर लगी रोक को हटा दिया. साथ ही तेज प्रताप यादव और भारत पेट्रोलियम को सुलह कानून के तहत मामले को सुलझाने के लिए आर्बिटेटर के पास भेजा है.

यह भी पढ़ें-  CBI रेड पर अब बनेगी आगे की रणनीति, तेजस्वी यादव चले दिल्ली