तेजस्वी ने दी बिहार की जनता को दीपावली की बधाई, कहा- पढ़ाई, कमाई, सिंचाई और दवाई में व्याप्त अंधेरे को खत्म करके ही दम लूंगा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : तेजस्वी यादव ने बिहार की जनता को दीपावली की शुभकामनाएं दी है. उन्होने ट्वीट कर लिखा कि “ आप सभी को दीपावली के पावन पर्व की असंख्य शुभकामनाएं. हम अशिक्षा, गरीबी, भ्रष्टाचार, बेरोज़गारी, अफसरशाही के साथ साथ दवाई, पढ़ाई, कमाई, सिंचाई और सुनवाई में व्याप्त घनघोर अंधेरे को खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है. जय हिंद, जय बिहार”.

तेजस्वी यादव महागठबंधन का नेता चुने गए हैं. 2020 के चुनाव में महागठबंधन की सरकार बनने की प्रबल संभवना जतायी जा रही थी. लेकिन नतीजे तमाम कयासों के विपरीत आए. बिहार की जनता ने तेजस्वी पर विश्वास करने के बजाए नीतीश कुमार पर एक बार फिर विश्वास किया है. एनडीए को 125 सीटें आयी है वहीं महागठबंधन को 110 सीटों से ही संतोष करना पड़ा है.



तेजस्वी की सरकार नहीं बनने के पीछे कांग्रेस को जिम्मेवार ठहरा रहे हैं महागठबंधन के घटक दल. भाकपा माले के दीपांकर भट्टाचार्य ने कहा कि औकात से ज्यादा कांग्रेस ने सीटें लेकर बर्बाद करने का काम किया. अगर इतनी सीटें माले को मिली होती तो शायद आज दृश्य कुछ और होता.

वहीं आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने यहां तक कह डाला कि बीजेपी का विकल्प कांग्रेस हो सकती है, यह उम्मीद करना सहीं नहीं है. छोटे-छोटे दलों को ही मिलकर नये विकल्प की तलाश करनी होगी. तब जाकर बीजेपी के विजयरथ को रोका जा सकता है.

उधर साथियों के आरोप को कांग्रेस ने सिरे से खारिज कर दिया है. प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा कि महागठबंधन की हार नहीं हुई बल्कि सत्ताधारी दल के लोगों ने जनमत का अपहरण कर लिया. एक अणे मार्ग से बैठकर महागठबंधन के प्रत्याशियों को हराने का काम किया गया है.

सांसद अखिलेश सिंह ने कहा कि महागठबंधन की हार के लिए सिर्फ कांग्रेस को जिम्मेवार ठहराना सही नहीं है. हार की जिम्मेवारी हम सभी को लेनी होगी. हार किसी एक दल के कारण नहीं हुई है. सीएम नीतीश कुमार के साथ सुशील मोदी, नित्यानंद राय और मंगल पांडेय ने एक अणे मार्ग के फोन कर महागठबंधन के प्रत्याशियों को हराने का काम किया. यह सब  हमने देखा है .