महागठबंधन को कमजोर कर रहे तेजस्वी, मांझी ने लगाए कई बड़े आरोप

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : तेजस्वी के ‘तबे एकला चलो रे’ की राजनीति से प्रदेश महागठबंधन में विरोध का स्वर फूटने लगा है. महागठबंधन के घटक दलों ने तेजस्वी के अकेले चलने की राजनीति को महागठबंधन के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक करार दिया है. जीतन राम मांझी ने तो यहां तक कह दिया कि तेजस्वी के अकेले चलने से प्रदेश में महागठबंधन कमजोर होगा. और इसका फायदा सत्तापक्ष को मिलेगा.

गोपालगंज मामले को लेकर तेजस्वी के हाय तौबा मचाने पर पलटवार करते हुए जीतन राम मांझी ने कहा कि बिहार में अन्य जगहों पर भी लूट, हत्याएं हुई है. तेजस्वी ने अन्य जगहों को लेकर इतना हो हंगामा क्यों नहीं कर रहे है . सिर्फ गोपालगंज मामले पर इतना हंगामा क्यों? ऐसे मामलों पर सहयोगी दलों से विचार विमर्श नहीं करने पर भी मांझी ने सवाल उठाए.



आरजेडी द्वारा महागठबंधन के अन्य दलों को दरकिनार करने पर मांझी ने कहा कि ऐसा करना विरोधियों को बल देना है. महागठबंधन अगर कमजोर होता है तो इसके लिए आरजेडी जिम्मेवार होगा. बता दे कि गोपालगंज नरसंहार मामले को लेकर तेजस्वी का आज गोपालगंज कूच था . लेकिन लॉकडाउन की वजह से पुलिस ने उन्हे पटना में ही रोक दिया.

पुलिस के रोके जाने के बाद तेजस्वी के नेतृत्व में आरजेडी प्रतिनिधिमंडल ने विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी से मुलाकात की. मुलाकात के दौरान एक ज्ञापन सौपकर बिहार में बढ़ते अपराध पर विशेष सत्र बुलाने की मांग की है.