जेडीयू की वर्चुअल रैली पर तेजस्वी का पलटवार, कहा – लाख कोशिश कर लें अबकी होगी हार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार में विधानसभा चुनाव होने हैं. इसको लेकर सभी पार्टियों ने ताकत झोंक दी है. जेडीयू ने आज वर्चुअल महारैली कर सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए विपक्ष पर करारा प्रहार किया. वर्चुअल रैली को संबोधित करते हुए जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष व प्रदेश के मुखिया नीतीश कुमार ने कोरोना, बाढ़, सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य, कानून व्यवस्था, रोजगार, उद्योग समेत तमाम बिन्दु पर सरकार द्वारा किए गए कार्यों की जानकारी दी. साथ ही विपक्ष पर कड़े प्रहार किए.


जेडीयू के आरोप पर पलटवार करते हुए तेजस्वी ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लाख वर्चुअल रैली कर ले लेकिन हमलोग एक्चुअल से उन्हें भागने नहीं देंगे. जेडीयू के वर्चुअल महारैली को फ्लॉप रैली करार देते हुए तेजस्वी ने कहा कि लाइव प्रसारण को 15 हजार से ज्यादा लोगों ने नहीं सुना है. अगर मैं फेसबुक लाइव करूं तो श्रोताओं की संख्या लाखों में पहुंच जाएगी. प्रदेश की जनता नीतीश कुमार के सारे वादे को देख चुकी है. अब वे जनता से दूर हो गए हैं. तानाशाह की तरह लोगों से व्यवहार करने लगे हैं. लाइव के दौरान सीएम नीतीश के चेहरा से हार पूरी तरह से साफ झलक रही थी.




तेजस्वी ने एनसीआरबी और नीति आयोग की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा कि नीति आयोग के सूचकांक में बिहार शिक्षा, स्वास्थ्य मामले में काफी पीछे है. स्पेशल स्टेट्स की मांग करने वाले अपने वादे को भूल गए हैं. लालू जी ने बिहार को 7-7 यूनिवर्सिटी देने का काम किया. बिहार में अभी तक 58 घोटाले हुए जिसमें 20 हजार करोड़ की राशि का गबन किया गया. लेकिन अभीतक इसकी जांच नहीं करायी गयी.

तेजस्वी ने सृजन घोटाला और मुजफ्फरपुर बालिकागृह कांड में नीतीश कुमार पर अपनों को बचाने का आरोप लगते हुए कहा कि ऐसी घटनाओं में शामिल लोगों को सजा देने के बजाए उनको बचाने का काम किया गया. 10 नौकरशाह घोटाला में शामिल है लेकिन उनपर कार्रवाई करने के बजाए उन्हें सेवानिवृत के बाद अच्छे पदों पर बिठाया गया. उनकी सेवा विस्तार की गयी. यह सब बातें प्रदेश की जनता पूछ रही है. तेजस्वी ने अंत में कहा कि इन सवालों का जवाब मांग रहा बिहार, कहां और कबतक भागेंगे नीतीश कुमार. आप लाख हमपर और हमारे परिवार पर हमला बोले लेकिन इसबार आपको प्रदेश की जनता सबक सीखाने वाली है.