‘महज एक इस्तीफे से बात नहीं बनेगी’ शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी के इस्तीफे पर तेजस्वी ने ऐसे किया कटाक्ष

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : विवादों में घिरे शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने आज ही विभाग का कार्यभार संभाला और महज ढाई घंटे के बाद ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया. जिसको लेकर तेजस्वी ने ट्वीट कर नीतीश सरकार पर कटाक्ष किया है. उन्होंने लिखा है कि महज एक इस्तीफे से बात नहीं बनेगी.  

तेजस्वी ने ट्वीट कर लिखा कि ” मा. मुख्यमंत्री जी, जनादेश के माध्यम से बिहार ने हमें एक आदेश दिया है कि आपकी भ्रष्ट नीति, नीयत और नियम के खिलाफ आपको आगाह करते रहें. महज एक इस्तीफे से बात नहीं बनेगी. अभी तो 19 लाख नौकरी,संविदा और समान काम-समान वेतन जैसे अनेकों जन सरोकार के मुद्दों पर मिलेंगे. जय बिहार,जय हिन्द”



“मैंने कहा था ना आप थक चुके है इसलिए आपकी सोचने-समझने की शक्ति क्षीण हो चुकी है। जानबूझकर भ्रष्टाचारी को मंत्री बनाया थू-थू के बावजूद पदभार ग्रहण कराया घंटे बाद इस्तीफ़े का नाटक रचाया। असली गुनाहगार आप है। आपने मंत्री क्यों बनाया??आपका दोहरापन और नौटंकी अब चलने नहीं दी जाएगी?”

बता दें कि आज ही दोपहर 1 बजे शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने पदभार संभाला था. और करीब साढ़े तीन बजे अपने पद से इस्तीफा दे दिया. पदभार ग्रहण करने के बाद मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने अपने आप को बेकसुर बताते हुए तमाम आरोपों को दरकिनार करने की भरपूर कोशिश की.

वहीं मंत्री डॉ. मेवालाल चौधरी ने तेजस्वी के खिलाफ जमकर भड़ास निकालते हुए कि मुझ पर लगे सारे आरोप बेबुनियाद है. मैं चार्जशीटेड नहीं हूं. मेरा सारा मामला कोर्ट में है. उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव हो या कोई भी, वे सामने आकर हमसे बहस करें.

उन्होंने कहा कि बातें सकारात्मक होनी चाहिए. वे यह सलाह दें कि बिहार में कैसे क्लास रूम, टीचिंग समेत अन्य सुविधाओं को और अधिक बेहतर किया जाए. शिक्षा की गुणवत्ता को कैसे सुधारा जाए, इस पर बात होनी चाहिए, ना कि व्यक्तिगत आरोप प्रत्यारोप होना चाहिए.

बता दें कि मेवालाल पर बीएयू सबौर में वीसी रहते  प्रोफेसर नियु्क्ति में धांधली करने का आरोप है. तत्कालीन वीसी रहे मेवालाल चौधरी पर आरोप लगने के बाद राज्यपाल के आदेश पर जांच कराई गई थी. हाईकोर्ट के पूर्व जस्टिस की जांच में उनपर लगे आरोप सही पाए गए थे. इस केस में मेवालाल चौधरी का भतीजा गिरफ्तार भी हुआ था वहीं पूर्व वीसी पर सबौर थाने में केस दर्ज हुआ था.