सभी डीएम के साथ निर्वाचन आयोग ने की 4 घंटे की मैराथन बैठक, विधानसभा चुनाव को लेकर दिए ये निर्देश…पढ़िए खबर

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : कोरोना काल में चुनाव को लेकर आयोग की ओर से जारी किए गए गाइडलाइन से यह संभव है कि बिहार में विधानसभा चुनाव समय पर होगा. इसको लेकर लगातार तैयारी चल रही है. आज बिहार के सभी जिलों के साथ चुनाव आयोग की बैठक हुई. मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एच श्रीनिवास के साथ सभी जिलाधिकारी के साथ करीब 4 घंटे तक बैठक चली. जिसमें बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारी और आयोग की ओर से जारी दिशा निर्देश पर विस्तार से चर्चा किया गया.

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एच श्रीनिवास ने सभी जिलाधिकारी को चुनाव आयोग के नए गाइडलाइन की बातों से अवगत कराया. साथ ही सभी को निर्देश देते हुए कहा कि 2020 का चुनाव इसी दिशा निर्देश के तहत होगा. जिलों में तैयारी इसी दिशा निर्देश के तहत किया जाना चाहिए.



कोई भी अप्रवासी मजदूर वोटिंग से वंचित ना रह जाए इसको लेकर भी आयोग ने जिलाधिकारी को निर्देश दिया. साथ ही कहा कि मजदूरों का नाम जोड़ने के लिए अभियान चलाया जाएगा. विधानसभा स्तर पर मार्गदर्शिका बनाए जाने की बात करते हुए एच श्रीनिवास ने कहा कि राज्य स्तर, जिलास्तर और विधानसभा स्तर पर गाइडलाइन बनाया जाएगा.

इस बार चुनाव में बूथों की संख्या बढ़ाए जाने की बात करते हुए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने कहा कि बूथों पर महिला कर्मचारियों की तैनाती की जाएगी. प्रत्येक मतदान केन्द्रों को पूर्ण सेनेटाइजेशन की व्यवस्था होगी.

बता दें कि चुनाव आयोग ने कोरोना काल में चुनाव कराने को लेकर गाइडलाइन जारी कर दिया है. नये गाइडलाइन के अनुसार अब चुनाव कराने होंगे.

गाइडलाइन की खास बातें-

-क्वॉरंटीन सेंटर में रह रहे कोविड-19 मरीजों को मतदान के दिन आखिरी घंटों में मतदान करने दिया जाएगा.
-निर्वाचन आयोग ने कहा कि कंटेनमेंट जोन में रह रहे मतदाताओं के लिये अलग दिशानिर्देश जारी किये जाएंगे
– मतदान केंद्रों का सेनिटाइजेशन होगा, प्रत्येक मतदान केंद्र के प्रवेश द्वार पर थर्मल स्कैनर रखे जाएंगे।
-निर्वाचनकर्मी मतदान केंद्र के प्रवेश द्वार पर मतदाताओं के तापमान की जांच करेंगे.
– रोड शो के लिये प्रत्येक पांच वाहनों के बाद काफिले को विराम दिया जाएगा पहले यह संख्या 10 वाहनों की थी (सुरक्षाकर्मियों के वाहनों को छोड़कर).
– कोविड-19 के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए जनसभा और रैलियां की जा सकती हैं.
– सामाजिक दूरी के नियमों का पालन कराने के लिये निशान लगाए जाएंगे.

बता दें कि बिहार विधानसभा का मौजूदा कार्यकाल 29 नवम्बर को समाप्त होगा. ऐसे में अक्टूबर-नवम्बर के महीने में चुनाव कराये जाने की संभावना है.