SIS ग्रुप : एक बिलियन अमेरिकी डॉलर की पहली बिहारी बहुराष्ट्रीय कंपनी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : SIS ग्रुप ने पटना में 28 जून को अपनी 35वीं वार्षिक आम बैठक आयोजित की. इस बैठक की अध्यक्षता समूह के अध्यक्ष और राज्यसभा के सदस्य रवींद्र किशोर सिन्हा ने की. बैठक में रवींद्र किशोर सिन्हा ने आने वाले वर्षों में कंपनी के लक्ष्य के संबंध में अपना दृष्टिकोण रखा. बता दें कि SIS ग्रुप में आज दो लाख से ज्यादा कर्मचारी कार्यरत हैं. ग्रामीण क्षेत्रों में युवाओं के बीच SIS ग्रुप रोजगार सृजन को लेकर जागरूकता पर विशेष ध्यान देती रही है.

गैराज से हुई थी शुरूआत

समूह के अध्यक्ष रवींद्र किशोर सिन्हा ने बैठक के दौरान कहा कि SIS समूह भारत के 14 राज्यों में स्थापित अपने 20 प्रशिक्षण केंद्रों के माध्यम से युवाओं को उचित प्रशिक्षण देने वाले लाखों परिवारों के लिए आजीविका बनाना जारी रखेगा. बता दें कि इस समूह की शुरूआत बिहार की राजधानी पटना के गर्दनीबाग में एक छोटे से गैराज से हुई थी. यह समूह अब देश के 29 राज्यों में विभिन्न उद्योगों और क्षेत्रों में काम करने वाले 13 हजार से अधिक ग्राहकों को सेवा प्रदान करता है. SIS ग्रुप आज भारत और ऑस्ट्रेलिया में सबसे बड़ी सुरक्षा प्रदाता कंपनी बन चुकी है. साथ ही यह कंपनी भारत में दूसरी सबसे बड़ी सुविधा प्रबंधन कंपनी है. यह समूह अब भारत, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर और न्यूजीलैंड में नेतृत्व प्रदान कर रहा है.

एक बिलियन यूएस डॉलर वाली पहली बिहारी MNC

SIS ग्रुप एक बिलियन यूएस डॉलर की पहली बहुराष्ट्रीय कंपनी बन गई है. इसको लेकर रवींद्र किशोर सिन्हा ने गर्व व्यक्त करते हुए कहा यह भविष्य में बिहार आधारित उद्यमियों और उद्योगपतियों के लिए बड़ा सोचने और राष्ट्रीय स्तर पर अधिक से अधिक सफलता प्राप्त करने का रोडमैप तैयार करेगा. उन्होंने बताया कि यह समूह पिछले पांच साल में 7100 करोड़ का टर्नओवर और 19 फीसदी संचयी वार्षिक वृद्धि दर तक पहुंच गया है. समूह के अध्यक्ष ने बताया कि एसआईएस समूह प्रौद्योगिकी समाधानों में निरंतर निवेश कर रहा है. साथ ही SIS सरकार के कौशल विकास पहलों में एक महत्वपूर्ण भागीदार है और देश के सबसे बड़े निजी क्षेत्र के नियोक्ताओं में से एक है. उन्होंने कहा कि बिहार के लिए यह गर्व की बात है कि SIS बिहार में अवस्थित प्रधान कार्यालय वाली पहली कंपनी है जो IPO में सूचीबद्ध हुई है.

तेज सेना पर त्यागी बोले- जीवन में कौन सा काम किया कि उस विचार पर सेना बना रहे हैं

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*