विकास की आंधी में बुझ जाएगा ‘लालटेन’, आभास होते ही आरजेडी में मची भगदड़

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क:  आरजेडी के तीन विधायकों के जेडीयू में शामिल होने पर डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने कहा कि बिहार में चुनाव कब होंगे,  इस पर तो चुनाव आयोग को निर्णय करना है, लेकिन लालू प्रसाद की पार्टी में जिस तरह से भगदड़ मची, उससे साफ है कि चुनाव निकट हैं और उनके लोगों को आभास हो चुका है कि न्याय के साथ विकास की आंधी में लालटेन काम नहीं आएगी.

सुशील मोदी ने आगे लिखा कि तीन दिन में जिस पार्टी के आधा दर्जन विधायक साथ छोड़ दें और कई वक्त के इंतजार में हों, वह अपनी हताशा बयानों में जाहिर करने के सिवा क्या कर सकती है?.



वहीं उन्होंने कहा कि पूर्व मंत्री चंद्रिका राय का राजद छोड़ना केवल पारिवारिक विवाद नहीं, सामाजिक मुद्दा है. जनता पूछेगी कि जो परिवार एक बेटी को न्याय नहीं दे सका, वह बिहार की बेटियों को न्याय कैसे देगा? राजद ने दहेज-प्रथा के विरुद्ध मानव श्रृंखला में भाग क्यों नहीं लिया था?.

सेना के जवानों के लिए ” वन रैंक, वन पेंशन”, धारा-370 हटने के बाद ” एक देश, एक संविधान, एक निशान”, गरीबों-मजदूरों के लिए ” वन नेशन, वन राशन कार्ड” और अब करोड़ों शिक्षित युवाओं के लिए ” एक देश, एक परीक्षा” का संकल्प राष्ट्रीय एकता को मजबूत करने वाले बड़े फैसलों की ताजा कड़ी है.

सरकारी सेवा में ग्रुप बी और सी की नौकरियों के लिए जहां पहले बीस एजेंसियां अलग-अलग समय में टेस्ट लेती थीं, उनके स्थान पर अब केवल राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी( NRA) परीक्षा लेगी. इससे तीन करोड़ से ज्यादा युवाओं को राहत मिलेगी.

सरकारी नौकरी के प्रति बिहार में ज्यादा आकर्षण है, इसलिए एनआरए गठित होने का ज्यादा फायदा भी बिहार को मिलेगा. यूपीए की सरकार जो काम दस साल में नहीं कर पायी, वह मोदी-2 के दूसरे साल में हो गया.

राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी बनने से रेलवे, बैंकिंग, एसएससी के सवा लाख पदों पर नौकरी के इच्छुक करोड़ों युवाओं के समय और पैसे की बचत होगी. अब टेस्ट और रिजल्ट के बीच की अवधि घटेगी और युवाओं को बार-बार की लंबी यात्राओं से राहत मिलेगी. कांग्रेस और राजद के युवराजों को नौकरी पाने के संघर्ष का जरा भी एहसास होता, तो वे इसके स्वागत में एक ट्वीट अवश्य करते.