नीतीश सरकार के शपथ ग्रहण से सांसद ललन सिंह ने क्यों बनायी दूरी, कारण पता चल गया…

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : कोरोना संक्रमण की चपेट में अब जदयू के राज्यसभा सांसद ललन सिंह आ गए हैं. उन्हें पटना एम्स में एडमिट कराया गया है. एम्स सूत्रों के अनुसार, ललन सिंह के फेफड़ों में इन्फेक्शन और पैचेज पाया गया है. फिलहाल उनकी हालत स्थिर है और स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है.

बताया जाता है कि ललन सिंह अपने दांत के इलाज के लिए दिल्ली गए थे. वहां उनका कोरोना टेस्ट किया गया, जिसमें वे पॉजिटिव पाए गए. जानकारी के अनुसार, कुछ दिन दिल्ली के ही एक अस्पताल में एडमिट रहे. फिर पटना आए, जहां 15 नवंबर को उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया. इसी वजह से वे शपथ ग्रहण समारोह में नहीं आ पाए थे.



इधर नीतीश सरकार के नये कैबिनेट में मंत्रियों के विभाग का बंटवारा हो गया. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पास सामान्य प्रशासन, गृह, मंत्रिमंडल सचिवालय, निगरानी, निर्वाचन समेत ऐसे सभी विभाग जो किसी को आवंटित नहीं है. वहीं डिप्टी सीएम तारिकशोर प्रसाद को वित्त विभाग, वाणिज्य, पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन , सूचना प्रावैधिकी, आपदा प्रबंधन,  नगर विकास एवं आवास विभाग की जिम्मेवारी जबकि उप मुख्यमंत्री रेणु देवी को पंचायती राज, पिछड़ा वर्ग एवं अतिपिछड़ा वर्ग और उद्योग विभाग का जिम्मा मिला है.

ग्रामीण विकास एवं ग्रामीण कार्य विभाग विजय चौधरी को दिया गया है. विजेन्द्र प्रसाद यादव को उर्जा, मद्ध निषेध और निबंधन विभाग दिया गया है. रामसूरत राय को राजस्व विभाग, जीवेश मिश्रा को पर्यटन और श्रम विभाग दिया गया है. रामप्रीत पासवान को पीएचईड़ी विभाग, मुकेश सहनी को पशुपालन विभाग दिया गया है.

वहीं, भवन निर्माण, अल्पसंख्यक कल्याण, समाज कल्याण विज्ञान प्रौधौगिकी विभाग अशोक चौधरी के जिम्मे है, मेवा लाल चौधरी को शिक्षा विभाग दिया गया है, मंगल पांडेय को एक बार फिर स्वास्थ्य और पथ निर्माण विभाग का मंत्री बनाया गया है. संतोष कुमार सुमन को लघु सिंचाई मंत्री बनाया गया है. शीला कुमारी को परिवहन मंत्री बनाया गया है.