लालू यादव के खटाल में इस गाय की अजबे कहानी, सभी इसे प्यार करते हैं, तेजस्वी ने बताया कारण…

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क: आज मकर संक्रांति है. आज के दिन लालू यादव और उनके यहां का दही चूड़ा के भोज की सुगंध से सियासी गलियारे में गर्मी आ जाती थी. बीते हुए गुलजार भरे दिन को लालू परिवार और उनके चाहने वाले सभी मिस कर रहे हैं. पुरानी यादों की ऐसी अमिट छाप मन मस्तिष्क पर है कि मिटाए ही नहीं मिटती. तभी तो आज के दिन लालू के छोटे लाल व नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव उस खटाल में पहुंच गए, जहां पर अक्सरहा लालू यादव जाया करते थे.

मकर संक्रांति के दिन की शुरूआत तेजस्वी ने खटाल से की. प्रत्येक गाय-भैंसों का दर्शन किया. इस दौरान लाइव सिटीज से बात करते हुए उन्होंने उस गाय को भी दिखाया जिसको लालू यादव ज्यादा मानते थे. तेजस्वी ने बताया कि पापा इसी गाय की दूध और दही को पसंद करते थे. मकर संक्रांति के दिन पापा को इसी गाय की दूध से बने दही को परोसा जाता था. पापा रोज इस खटाल में आते और गाय भैसों की सेवा किया करते थे.



तेजस्वी ने यह भी बताया कि जब पापा को मालूम हुआ कि मुझे गाय नहीं भैंस का दूध पसंद है तो उन्होंने भैंस खरीद दी. मैं तभी से भैंस का दूध और दही खाता हूं. उन्होंने कहा कि वो तो यहां हरवक्त नहीं आ पाते लेकिन माता राबड़ी देवी जी यहां प्रत्येक दिन आती है. गाय-भैंस का चारा और उनके रख रखाव की खबर लेते रहती हैं.

इन सब के इतर तेजस्वी यादव ने प्रदेश की हालात पर भी लाइव सिटीज से बातें की. उन्होंने कहा कि बिहार में लॉ एंड ऑर्डर पूरी तहर खराब हो चुकी है. सीएम नीतीश थक चुके हैं, उनसे बिहार संभल नहीं रहा है. आए दिन लूट, हत्याएं, अपहरण, बलात्कार जैसी घटनाएं हो रही है. लेकिन अपराधियों पर कंट्रोल करने बजाए उन्हें संरक्षण दिया जा रहा है. ऐसे में इस सरकार से क्राइम कंट्रोल की अपेक्षा करना उचित नहीं है.