सॉइल साइंटिस्ट की पढ़ाई कर रहा स्टूडेंट निकला साइबर क्रिमिनल, पूर्व पीएम डॉ मनमोहन सिंह के नाम पर कर रहा था ठगी

लाइव सिटीज, पटना/अमित जायसवाल : बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने साइबर क्राइम के एक बड़े मामले का खुलासा किया है. सॉइल साइंटिस्ट की पढ़ाई कर रहा एक स्टूडेंट देश के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के नाम पर ठगी कर रहा था. इंस्टाग्राम ग्राम पर ऑफिस ऑफ डॉ मनमोहन सिंह के नाम से एक प्रोफाइल बनाकर उसे फॉलो कर रहे लोगों के साथ फर्जीवाड़ा कर रहा था. फॉलो कर रहे लोगों से पे टीम के जरिए डोनेशन की उगाही कर रहा था. रुपए मंगाने के लिए वो पे टीएम का इस्तेमाल कर रहा था. इस फर्जी इंस्टाग्राम प्रोफ़ाइल को 90 हजार लोग फॉलो कर रहे थे.

  इस मामले की जानकारी आर्थिक अपराध शाखा के एडीजी जितेंद्र सिंह गंगवार को हुई. फिर साइबर सेल की टीम को जांच के लिए एक्टिव किया गया. पूर्व प्रधानमंत्री के नाम पर बनाये गए फर्जी इंस्टाग्राम प्रोफाइल को खंगाला गया. जांच के क्रम में प्रोफ़ाइल के एडमिन का मोबाइल नम्बर 8210039492 मिला. जब इस नम्बर का डिटेल निकाला गया तो वो मुजफ्फरपुर के पैगम्बरपुर कोल्हुआ के पुलिस लाइन चौक की रहने वाली पूनम सिंह के नाम से मिली.



  फिर आर्थिक अपराध शाखा की टीम ने पे टीएम के नोडल ऑफिसर से कॉन्टैक्ट किया. जो डिटेल पे टीएम के अधिकारी से मिला, उसके अनुसार इंस्टाग्राम से लिंक्ड पे टीएम वॉलेट का इस्तेमाल सोमू नाम का कोई व्यक्ति कर रहा है. वॉलेट से लिंक्ड बैंक अकाउंट मुजफ्फरपुर के पुलिस लाइन चौक के रहने वाले सोमेश्वर सिंह के नाम पर है. इसके बाद आर्थिक अपराध शाखा की तरफ से पूरे मामले की जानकारी मुजफ्फरपुर के एसएसपी जयंतकांत को दी गई. इसके बाद मुजफ्फरपुर की एक स्पेशल टीम ने छापेमारी कर 22 साल के सोमेश्वर सिंह को अपने कब्जे में लिया. उससे पूछताछ की. उसके पास से एक मोबाइल बरामद किया.

इसी मोबाइल में 8210039492 का सिमकार्ड लगा हुआ मिला. इसके साथ ही उस मोबाइल में दूसरी सिमकार्ड भी मिली. जिसका नम्बर 8375835574 है. इसी मोबाइल में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के नाम से बनाई गई फर्जी इंस्टाग्राम प्रोफाइल मिली. पुलिस की जांच में पता चला कि पूनम सिंह सोमेश्वर की मां का नाम है. यह शातिर देहरादून के दून बिजनेस कॉलेज से सॉइल साइंटिस्ट की पढ़ाई कर रहा है. इसके पास से कोटक महिंद्रा बैंक का पासबुक मिला है. यह वही अकाउंट है, जो पे टीएम से लिंक है. गलत तरीके से मंगाए जा रहे डोनेशन के रुपए इसी अकाउंट में आये हैं. अब पुलिस टीम अकाउंट के डिटेल्स को खंगाल रही है. उसमें कितने रुपए आये हैं, इसका पता लगाया जा रहा है. साइबर क्राइम के तहत पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है.