बिहार में ही होगी शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार की व्यवस्था, चनपटिया की चुनावी सभा में बोले कुशवाहा-30 साल इन लोगों ने बर्बाद कर दिया

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पश्चिम चंपारण के चनपटिया में उपेन्द्र कुशवाहा ने चुनावी सभा की. इस मौके पर उन्होंने जीडीएसएफ समर्थित प्रत्याशी संतोष कुमार कुशवाहा को लोगों के जिताने की अपील किया. चंपारण की धरती को प्रणाम करते हुए कुशवाहा ने गांधी जी को याद किया.

गांधी जी के बुनियादी विद्यालय की चर्चा करते हुए कुशवाहा ने कहा कि उनका मकसद शिक्षा को बढ़ावा देना था. शिक्षा के विकास के बिना किसी का विकास नहीं हो सकता है. गांधी जी का सपना आज के संदर्भ में भी लागू है. बच्चों की पढ़ाई लिखाई जरूरी है.



लोगों में शिक्षा के प्रति जागरूकता बढ़ी है. हर गरीब अपने बच्चे को पढ़ना चाहता है. लेकिन बिहार में अच्छी शिक्षा नहीं होने के कारण इनकी मंशा धरी की धरी रह जाती है. धनवान लोग अपने बच्चे को अच्छी शिक्षा पैसों की बदौलत खरीद लेते हैं. लेकिन गरीब के पास पैसा नहीं होने के कारण उनका बच्चा पढ़ नहीं पाता है.

1990 से लेकर आज तक सरकारी स्कूलों की स्थिति में सुधार नहीं हुआ. 30 वर्ष में गरीब के बच्चों का जीवन बर्बाद हो गया. क्या दोनों भाई ऐसे बच्चों का बर्बाद जीवन को आबाद कर सकते हैं ?. इसलिए आगे ऐसा ना हो जीडीएसएफ की सरकार बनाने का काम करें.

कुशवाहा ने जनता से आग्रह किया कि आप लोगों ने उन दोनों को 15-15 साल मौका दिया. लेकिन शिक्षा का स्तर में सुधार नहीं किया गया. सिक्किम और दिल्ली के सरकारी स्कूलों में अच्छी पढ़ाई हो सकती है, तो क्या बिहार के सरकारी स्कूलों में पढ़ाई नहीं हो सकती है?

बिहार में सरकारी अस्पतालों का खस्ता हाल है. अमीर आदमी प्राइवेट अस्पताल में स्वास्थ्य लाभ ले लेता है. लेकिन गरीब जब बीमार होता है तो सरकारी अस्पताल में जाता है, लेकिन स्वास्थ्य व्यवस्था के खस्ता हालात के कारण उसे अच्छा ट्रिटमेट नही मिल पाता.

दूसरे प्रदेशों में बिहार के लोग अक्सरहा रोजी-रोटी की तलाश में अभी भी जा रहे हैं. बाहर के प्रदेशों में बिहारी अपनी जान को जोखिम में डालकर काम करता है. 5-7 हजार के लिए लोग अपनी जान जोखिम डालते हैं. दूसरे प्रदेश के लोग बिहार में नहीं आते, क्योंकि उनको वहीं पर रोजगार मिल जाता है.

बिहार में भी रोजगार, शिक्षा और स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है. नीतीश कुमार ने मोतिहारी चीनी मिल खुलवाने का वादा किया था. लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. 15-15 साल में दोनों भाईयों ने कुछ नहीं किया. ये लोग किस मुंह से आपसे वोट मांगने आ रहे हैं.

इस बार आप लोग जीडीएसएफ प्रत्याशियों को जिताएं. मेरी सरकार बनी तो यहां के युवाओं के लिए रोजी रोटी के लिए यहीं पर व्यवस्था किया जाएगा. गरीब के बच्चों के पढ़ने के लिए सरकारी स्कूलों की स्थिति में सुधार किया जाएगा. सरकारी अस्पतालों की हालात में सुधार किया जाएगा.

हमारे गठबंधन ने तय किया है कि समाज के उपेक्षित वर्ग के लोगों को सत्ता में हिस्सेदारी दी जाएगी. अभी तक इन लोगों ने सिर्फ इस्तेमाल किया. हम लोग चार-चार डिप्टी सीएम बनाएंगे. दलित समाज से एक, अतिपिछड़ा समाज से एक , एक अल्पसंख्यक समाज से और अगड़ी समाज से एक उपमुख्यमंत्री बनाया जाएगा. चारों डिप्टी सीएम में एक महिला जरूर होगी.