कल बिहार के करीब 35 हजार डॉक्टर रहेंगे हड़ताल पर, केन्द्र के फैसले का विरोध

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : कल यानी शुक्रवार को बिहार के लगभग 35 हजार डॉक्टर काम नहीं करेंगे. हालांकि इमरजेंसी और कोरोना जांच के साथ संक्रमितों के इलाज का काम देखेंगे, लेकिन ओपीडी सेवा पूरी तरह से ठप रहेगी. केन्द्र के फैसले के खिलाफ आईएमए ने हड़ताल का आह्वान किया है.

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन बिहार के पूर्व अध्यक्ष डॉ. सच्चिदानंद प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के 35 हजार डॉक्टरों ने हड़ताल की तैयारी कर ली है. सरकारी और प्राइवेट अस्पताल में इमरजेंसी सेवा छोड़ कोई भी काम नहीं होगा. सुबह 6 से शाम को 6 बजे तक डॉक्टर पूरी तरह से हड़ताल पर रहेंगे.



उन्होंने कहा कि मिक्सोपैथी ऑफ एनएमसी, आयुर्वेद के डॉक्टरों को सर्जरी करने का अधिकार देना गलत है. यह मरीजों के हित में नहीं है. इसी कारण से डॉक्टरों ने शुक्रवार को सुबह 6 से शाम 6 बजे तक हड़ताल का फैसला लिया है.

ऐसे में अगर कोई इमरजेंसी नहीं है तो शुक्रवार को अस्पताल के ओपीडी में नहीं जाएं. बात सिर्फ बिहार के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच की तो यहां पर ओपीडी में एक दिन में तकरीबन 2 हजार मरीज इलाज कराने आते हैं. पटना के अन्य सरकारी अस्पतालों के ओपीडी में मरीजों के आने की कुल संख्या पांच हजार के करीब पहुंच जाता है.

उधर डॉक्टरों के कल की हड़ताल के बाद मरीजों के लिए एक दिन OPD का समय मिलेगा. शनिवार के बाद रविवार को फिर OPD बंद रहेगा. ऐसे में शनिवार को ओपीडी में काफी भीड़ हो जाएगी. अब सोमवार से ही अस्पतालों के OPD व्यवस्थित ढंग से चल पाएंगे.